किसानों का Digital अड्डा

गिलोय एक फायदे हैं अनेक, जानिए गिलोय का इस्तेमाल और किन बीमारियों में आता है काम

Health benefits of Giloy

Health benefits of Giloy ke fayde in hindi गिलोय का नाम तो आप सभी ने सुना होगा। इनमें से कुछ लोगों को गिलोय के बारे में पता होगा और कुछ नहीं पता होगा। जिनको गिलोय के बारे में पता है उनके लिए भी हम यही कहेंगे कि उन्हें गिलोय के बारे में वो नहीं पता होगा जो हम आपको बताने जा रहे हैं।

जिन्हें गिलोय के बारे में नहीं पता उनको हम बताएंगे कि गिलोय क्या है, इसके क्या फायदे हैं, इसका उपयोग किन-किन बीमारी में क्या जाता है।

ये भी देखें : अब नीम से बनेगी सस्ती खाद, फसलों की सेहत होगी अच्छी, कीड़े भी मर जाएंगे

Kisan of India Youtube

ये भी देखें : 10वीं पास बच्चों को मिलेंगे 5 साल तक 2000 रुपए प्रतिमाह, ऐसे करें आवेदन

ये भी देखें : NEET PG 2021 : एग्जाम स्थगित, नई तारीखों की घोषणा जल्दी

गिलोय क्या है

गिलोय को एक औषधि है। जो कई बीमारियों में काम आती है। अगर बीमारी नहीं है तो भी इसका इस्तेमाल करते रहना चाहिए। इसके इस्तेमाल से हम बीमारियों से बचे रहते हैं। गिलोय एक कभी न सूखने वाली लता है। इसकी बेल देखने में तो रस्सी जैसी लगती है लेकिन इसके कोमल तने और शाखाओं से जड़ें निकलती हैं।

इसकी बेल पर पीले और हरे रंग के फलों के गुच्छे होते हैं। इसके पत्ते सोफ्ट और पान के आकार के होते हैं। वहीं इसके फल मटर के दाने जैसे होते हैं।

ये भी देखें : वर्षा से कपास की फसल खराब हुई तो खरीदेगी सरकार

ये भी देखें : किसानों को सरकार देगी 80 हजार रुपए, खरीद सकेंगे सोलर पम्प

Kisan Of India Facebook Page

गिलोय के फायदे

आंखों की परेशानी में लाभकारी

गिलोय आंखों के रोगों में फायदेमंद होता है। 10 मिली गिलोय के रस में 1 ग्राम शहद और सेंधा नमक मिलाकर अच्छे से पीस लें। इसे काजल की तरह लगाएं। इससे आंखों में छाना, चुभन, काला और सफेद मोतियाबिंद रोग ठीक हो जाते हैं। गिलोय के रस को त्रिफला में मिलाकर काढ़ा बनाकर पीने से आंखों की रौशनी बढ़ जाती है।

कान की बीमारी के लिए फायदेमंद

गिलोय के तने को पानी में घिसकर गुनगुना कर लें। इसे कान में 2-2 बूंद दिन में दो बार डालने से कानों का मैल निकल जाता है।

हिचकी रोकने में फायदेमंद

गिलोय और सौंठ का चूरन को नसवार की तरह सूंघने से हिंचकी की परेशानी से निजात मिल जाती है। गिलोय का चूरन और सोंठ के चूरन की चटनी बना ले और इसमें दूध मिलाकर पिए। हिचकी में आराम मिलेगा।

टीबी के रोग में फायदेमंद

अश्वगंधा, गिलोय, शतावर, दशमूल, बलामूल, अडूसा, पोहकरमूल और अतीस को बराबर मात्रा में मिलाकर काढ़ा बनाएं। इस काढ़े को 20-30 मिली सुबह और शाम लें। टीबी की बीमारी ठीक हो जाएगी।

उल्टी की परेशानी होती है दूर

अगर किसी को एसिडिटी हो तो 10 मिली गिलोय के रस में 4-6 मिश्री मिला लें। इसे सुबह और शाम पीने से उल्टी बंद हो जाती है।

कब्ज की समस्या भी करता है दूर

गिलोय का 10-20 मिली रस के साथ गुड़ का सेवन करने से कब्ज की समस्या दूर होती है।

Kisan of India Twitter

बवासीर का भी करता है खात्मा

हरड़, गिलोय और धनिया को बराबर 20 ग्राम मात्रा में सभी को आधा लीटर पाने में पका लें। जब पानी एक चौथाई होकर काढ़ा की तरह बन जाएगा। उसमें गुड़ डालकर सुबह और शाम पिएं। समस्या दूर हो जाएगी।

  • पीलिया में भी गिलोय फायदेमंद होता है।
  • लीवर की बीमारी को भी गिलोय ठीक कर देता है।
  • डीयबिटीज कंट्रोल करने में फायदेमंद होता है।
  • रुक-रुक कर पेशाब की समस्या को भी दूर करता है।
  • गठिया की दिक्कतों को ठीक करता है।
  • फाइलेरिया (हाथीपांव) रोग में भी लाभकारी है।
  • कुष्ठ रोग के इलाज में भी मददगार है।
  • दिल से जुड़ी बामारियों में फायदेमंद होता है।
  • कैंसर में भी गिलोय फायदेमंद होता है।

Kisan Of India Instagram

सम्पर्क सूत्र: किसान साथी यदि खेती-किसानी से जुड़ी जानकारी या अनुभव हमारे साथ साझा करना चाहें तो हमें फ़ोन नम्बर 9599273766 पर कॉल करके या [email protected] पर ईमेल लिखकर या फिर अपनी बात को रिकॉर्ड करके हमें भेज सकते हैं। किसान ऑफ़ इंडिया के ज़रिये हम आपकी बात लोगों तक पहुँचाएँगे, क्योंकि हम मानते हैं कि किसान उन्नत तो देश ख़ुशहाल।
मंडी भाव की जानकारी
You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.