सेब

सेब की नर्सरी रूटस्टॉक Rootstock Multiplication Technology
फलों की खेती, तकनीकी न्यूज़, न्यूज़, फल-फूल और सब्जी, सेब

सेब की नर्सरी चलाने वाले पवन कुमार ने अपनाई रूटस्टॉक मल्टीप्लीकेशन तकनीक, चार गुना बढ़ी आमदनी

पारंपरिक रूटस्टॉक वाले सेब के पौधों की मांग घटने से हिमाचल के रहने वाले पवन कुमार गौतम का सेब की नर्सरी का उद्योग डगमगा गया था, मगर इस तकनीक ने उन्हें नई राह दिखाई। जानिए क्या है रूटस्टॉक मल्टीप्लीकेशन तकनीक।

सेब की खेती में ग्रेडिंग
फल-फूल और सब्जी, न्यूज़, फलों की खेती, सेब

सेब की खेती कर रहे डॉ. सैयद ओवैस फ़िरोज़ ने लगाया ग्रेडिंग प्लांट, आमदनी बढ़ाई और दूसरों को रास्ता दिखाया

डॉ. सैयद ओवैस के तकरीबन 6 कनाल के बाग से हर सीज़न में सेब की 1000 पेटियां निकलती हैं। 2021 में उन्होंने ऐसा ग्रेडिंग प्लांट लगाया, जिससे सेब की धुलाई, ब्रशिंग और सूखने के बाद उनकी आकार के हिसाब से ऑटोमेटिक छंटाई होती है।

कश्मीरी सेब की खेती kashmiri apple farming
फल-फूल और सब्जी, न्यूज़, फलों की खेती, सेब

कश्मीर के गुलाम हसन ख़ान ने सेब की खेती में अपनाई उच्च प्रबंधन तकनीकें, नये-नये प्रयोग करना पसंद

एक कनाल क्षेत्र में हाई डेंसिटी तकनीक से 170 पेड़ लगते हैं, जबकि परम्परागत सेब के तकरीबन 20 पेड़ों को इतनी जगह चाहिए होती है। यही नहीं, हाई डेंसिटी का प्रत्येक पेड़ परम्परागत पेड़ के मुकाबले फल भी कहीं ज़्यादा देता है। उन्होंने सेब की खेती करते हुए उसके विशेष प्रबंधन पर भी ध्यान दिया है।

सेब का गूदा apple pomace
न्यूज़, फलों की खेती, लाईफस्टाइल, सेब

सेब का गूदा यानी Apple Pomace से बनेगें केक और ब्रेड, कृषि उद्योगों को मिला कमाई का नया ज़रिया

हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर और उत्तराखंड जैसे मुख्य सेब उत्पादकों राज्यों के लिए Apple Pomace (सेब का गूदा) से केक और ब्रेड बनाने की नयी तकनीक एक सौग़ात साबित हो सकती है, क्योंकि वहाँ हर साल हज़ारों टन सेब से जूस निकालने के बाद एपल पोमेस को या तो फैक्ट्रियों में ही या उसके आसपास डम्प करना पड़ता है। इससे जल और वायु प्रदूषण की समस्या पैदा होती है।

हाई डेंसिटी तकनीक से सेब की खेती high density method in apple farming
फल-फूल और सब्जी, न्यूज़, फलों की खेती, सेब

हाई डेंसिटी तकनीक से सेब की खेती में तिगुनी कमाई, हिमाचल के किसान विशाल शांकता से जानिए इस तकनीक को कैसे अपनाएं

विशाल शांकता बताते हैं कि कई युरोपियन और एशियन देशों में सेब की औसत उत्पादकता 50 टन प्रति हेक्टेयर है, जबकि भारत में यह केवल 7 से 8 टन है। हाई डेंसिटी तकनीक के इस्तेमाल से सेब की खेती में उत्पादन बढ़ता है और लागत भी कम लगती है। जानिए इस तकनीक के बारे में विस्तार से।

Scroll to Top