एग्री बिजनेस

एग्री बिजनेस – कृषि और खेती से जुड़े ऐसे अनगिनत आइडियाज हैं जिन्हें आजमा कर आप भी बिना पैसे लगाए बिजनेस शुरु कर सकते हैं और खूब पैसा कमा सकते हैं। जानिए ऐसे ही कुछ बिजनेस आइडियाज के बारे में आपकी अपनी हिन्दी भाषा में

La Bae Mushroom coffee Powder
एग्री बिजनेस

LaBae Mushroom Coffee Powder: कैसे मशरूम उत्पादन से खड़ा किया ‘मशरूम कॉफी’ का ग्लोबल ब्रांड?

La Bae Mushroom coffee Powder, केरल का पहला कॉफ़ी पाउडर है, जो मशरूम के न्यूट्रिशन से भरपूर है। इसे 5 तरह के मशरूम को मिलाकर तैयार किया गया है।

खुबानी की खेती apricot cultivation apricot products
एग्री बिजनेस

खुबानी की खेती: FPO बनाकर एप्रिकॉट उत्पादों (Apricot Products) का लद्दाख में खड़ा किया बाज़ार

लद्दाख में एप्रिकॉट की खेती (Apricot Cultivation) के बारे में खारून निस्सा बताती हैं कि पहले खुबानी के बीज की बुवाई की जाती है। बीज बोने के बाद पेड़ बनने में 6-7 साल का समय लगता है। उसके बाद ही इस पर फल उगते हैं।

Apiculture मधुमक्खी पालन
एग्री बिजनेस

Apiculture: मधुमक्खी पालन में है दम, लागत आए कम, कैसे कमाएं हर महीने 5 लाख रुपये का मुनाफ़ा?

मधुमक्खी पालन उन किसानों के लिए कमाई का अच्छा ज़रिया है जिनके पास खेती योग्य ज़मीन कम है या बिल्कुल भी नहीं हैं। मधुमक्खी पालन को ही मौन पालन या एपीकल्चर (Apiculture) भी कहते हैं।

Fish Farming Business: मछली पालन व्यवसाय से जुड़ी अहम जानकारी, जानिए क्या है विशेषज्ञों और अनुभवी मछली पालकों की राय?
एग्री बिजनेस

Fish Farming Business: मछली पालन व्यवसाय से जुड़ी अहम जानकारी, जानिए क्या है विशेषज्ञों और अनुभवी मछली पालकों की राय?

मछली पालन उद्योग का असर भारतीय अर्थव्यवस्था पर भी पड़ा है। देश के मछुआरों और मछली पालन उद्योग एक बड़े सेक्टर के रूप में उभर कर आया है। भारतीय मत्स्य पालन की एक रिपोर्ट के अनुसार, साल 1980 के दशक में जो मछली उत्पादन 36 फ़ीसदी था, वो बढ़कर आज के वक्त में 70 फ़ीसदी पर पहुंच गया है। जानिए मछली पालन से जुड़े अहम बिंदुओं के बारे में।

Ragi Crop: रागी की फसल से क्या-क्या तैयार किया जा सकता है? रागी की खेती से जुड़ी अहम जानकारी
न्यूज़, एग्री बिजनेस

Ragi Crop: रागी की फसल से क्या-क्या तैयार किया जा सकता है? रागी की खेती से जुड़ी अहम जानकारी

रागी की फसल (Ragi Crop) मुख्य रूप से आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और तमिलनाडु में सबसे ज़्यादा खेती होती है। केरल, कर्नाटक राज्यों में इसे मुख्य भोजन के रूप में खाया जाता है। 

Sindoor Plant सिंदूर के पौधे
एग्री बिजनेस

Sindoor Plant: सिंदूर की खेती कैसे होती है? सिंदूर के पौधे से क्या-क्या बनता है और कहां से लें ट्रेनिंग?

आपने अभी तक कई चीज़ों की खेती के बारे में सुना होगा, लेकिन क्या कभी सिंदूर की खेती के बारे में सुना है? कम ही लोग जानते हैं कि सिंदूर का पौधा भी होता है, जिससे ऑर्गेनिक लाल रंग का सिंदूर बनता है। साथ ही और कई उत्पाद बनाए जाते हैं। जानिए सिंदूर का पौधा कैसे उगाया जाता है और सिंदूर की खेती से जुड़ी अहम जानकारियां सीधा एक्सपर्ट से।

गुलाब-की-150-किस्में-जानिए-Terrace-Gardening
फल-फूल और सब्जी, एग्री बिजनेस, न्यूज़, फूलों की खेती

Rose Varieties: छत पर उगा दी गुलाब की 150 किस्में, जानिए Terrace Gardening की टिप्स अनिल शर्मा से

फूलों की सुंदरता भला किसे आकर्षित नहीं करती, मगर हर कोई इसे घर में उगा नहीं पाता है। क्योंकि इसमें मेहनत लगती है, मगर झांसी के अनिल शर्मा ने अपने शौक को पूरा करने के लिए एक दो नहीं, बल्कि छत पर 700 गमले लगाए हुए हैं। जानिए उनसे गुलाब की किस्मों से लेकर Terrace Gardening के टिप्स।

FPO-गठन
एग्री बिजनेस, न्यूज़, फ़ूड प्रोसेसिंग

जानिए कैसे FPO गठन के ज़रिए आदिवासी किसानों को जैविक खेती के लिए प्रेरित कर रहे जगन्नाथ तिलगाम

किसान उत्पादक संगठन यानी Farmers Producer Organization (FPO) छोटे किसानों के लिए बहुत फ़ायदेमंद माना जाता है। इससे जुड़कर किसानों को न सिर्फ़ फसल की अच्छी कीमत मिलती है, बल्कि दूसरी सुविधाएं भी मिलती हैं। छत्तीसगढ़ के एक किसान जगन्नाथ तिलगाम ने अपने इलाके में FPO की शुरुआत की और FPO गठन के ज़रिए कैसे कउन्होंने आदिवासी किसानों को नई राह देखिए, पढ़िए इस स्टोरी में।

मक्के की फसल corn farming agriculture
कृषि उपज, एग्री बिजनेस, न्यूज़, फल-फूल और सब्जी, मक्का

मक्के की फसल का इस्तेमाल कई चीज़ों के लिए किया जाता है, जानिए मक्के की खेती से जुड़ी अहम जानकारी

मक्के की फसल की खेती रबी, खरीफ़ और जायद सीज़न में आराम से की जा सकती है, लेकिन खरीफ़ के मौसम में मक्के की फसल बारिश पर निर्भर करती है। मक्के की फसल 3 महीने का वक्त लेती है।

Integrated Farming System
टेक्नोलॉजी, एग्री बिजनेस, न्यूज़, फसल प्रबंधन

क्या है Integrated Farming System? जानिए प्राकृतिक तरीके से कैसे करें एकीकृत कृषि प्रणाली से खेती

एकीकृत कृषि प्रणाली उन स्थानों के लिए सबसे उपयुक्त मानी जाती है जहां पर एक फसल होती है, सिंचाई की कमी और कम बारिश का क्षेत्र हो। इस पद्धति से कृषि को पशुधन के साथ जोड़ कर लाभ कमा सकते हैं। मुर्गीपालन और मछली पालन को एक ही जगह पर रखा जा सकता है ताकि साल भर रोज़गार पैदा हो सके।

Mushroom Farming Business Plan मशरूम की खेती
एग्री बिजनेस, न्यूज़, मशरूम, सब्जियों की खेती, स्टार्टअप

Mushroom Farming Business Plan: मशरूम की खेती की शुरुआत कैसे करें और कहां है बाज़ार?

अगर आप मशरूम की खेती के लिए एक बिज़नेस प्लान के साथ काम करें तो आप इस मार्केट में अपनी पकड़ रख सकते हैं। इस लेख में हम मशरूम उगाने के बिजनेस प्लान मॉडल (Mushroom Farming Business Plan) की ज़रूरी डीटेल्स शेयर कर रहे हैं।

गाय के गोबर से सजावटी सामान
एग्री बिजनेस, न्यूज़, स्टार्टअप

गाय के गोबर से सजावटी सामान बनाने का स्टार्टअप शुरू करने वाले करन सिंह से ख़ास बातचीत

करन सिंह बतातें हैं कि कोई भी व्यक्ति गाय के गोबर से सजावटी सामान बनाने का बिज़नेस दो हज़ार से तीन हज़ार रुपए से शुरू कर सकता हैं। इसमें लागत इसलिए कम आती है कि किसान गांव में रहता है और गाय का गोबर भी आसानी से मिल जाता है।

मधुमक्खी पालन
एग्री बिजनेस, कृषि संस्थान, न्यूज़, फ़ूड प्रोसेसिंग, वीडियो, सक्सेस स्टोरीज, स्टार्टअप

कैसे पहाड़ी क्षेत्रों में मधुमक्खी पालन को मिल रहा बढ़ावा? जानिए एक्सपर्ट से क्या हैं योजनाएं

कम लागत और समय में मुनाफ़ा कमाने का एक अच्छा विकल्प है मधुमक्खी पालन जिसे मौन पालन भी कहा जाता है। ख़ासतौर पर पहाड़ी इलाकों में, उत्तराखंड के किसानों और युवाओं को मधुमक्खी पालन के लिए प्रेरित करने में सरकारी संस्थाएं मदद कर रही हैं।

बांस के उत्पाद
एग्री बिजनेस, इनोवेशन, न्यूज़, वीडियो

कैसे बांस और बेकार की लकड़ियों से काम के उत्पाद बना रहे ये छात्र? डॉ. मोहम्मद नासिर से ख़ास बातचीत

कृषि प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय के वानिकि महाविद्यालय के असिस्टेंट प्रोफ़ेसर डॉ. मोहम्मद नासिर बताते हैं कि उनके कॉलेज में अलग-अलग तरह के कोर्स हैं। इन्हीं कोर्स में से एक है फ़ॉरेस्ट प्रॉडक्ट यूनिलाइज़ेशन प्रोग्राम, जैसा कि नाम से ही ज़ाहिर होता है इस कोर्स में बच्चों को जंगल के उत्पादों का सही इस्तेमाल करना सिखाया जाता है।

मिलेट्स
एग्री बिजनेस, न्यूज़, फ़ूड प्रोसेसिंग, वीडियो

मिलेट्स ने हरियाणा के इस गांव की महिलाओं को बनाया आत्मनिर्भर, 300 महिलाओं को मिला रोज़गार

हमारे पारंपरिक अनाज कितने फ़ायदेमंद है ये मिलेट्स की बढ़ती लोकप्रियता से साफ़ हो चुका है। मिलेट्स के ज़रिए हरियाणा के एक गांव की 300 महिलाओं को स्वरोज़गार मिल रहा है। कभी महज़ 10 महिलाओं का ये छोटा समूह अब FPO बन चुका है और इससे 300 महिलाएं जुड़कर सम्मान का जीवन जी रही हैं।

तेंदू पत्ता
न्यूज़, स्टार्टअप

Tendu Patta: कैसे तेंदू पत्ता बदल रहा छत्तीसगढ़ के आदिवासियों का जीवन?

तेंदूपत्ता की खेती में छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश का नाम सबसे आगे आता है। इन दोनों राज्य में इसे हरा सोना भी कहते हैं। इस पत्ते का सबसे ज़्यादा इस्तेमाल बीड़ी बनाने में किया जाता है। तेंदूपत्ता बेचने के बिज़नेस को शुरू करने के लिए लाइसेंस अनिवार्य है। जिसके लिए नगर निगम में जाकर अप्लाई किया जाता है।

मधुमक्खी पालन 2
न्यूज़, एग्री बिजनेस, फ़ूड प्रोसेसिंग, विविध

Apiculture: कैसे कृषि और मधुमक्खी पालन के बीच है दिलचल्प संबंध? किसानों-युवाओं को भा रही Beekeeping

शहद और मधुमक्खियों के बिना, कई फसलें प्रजनन करने में सक्षम नहीं होंगी। मधुमक्खियां फसलों को मजबूत और कीटों और बीमारियों को लेकर ज़्यादा प्रतिरोधी बनाने में भी मदद करती हैं। जानिए खेती और मधुमक्खी पालन से जुड़ी अहम बातें।

केसर की खेती
एग्री बिजनेस, न्यूज़, मसालों की खेती, स्टार्टअप

Saffron Farming: नोएडा के एक छोटे कमरे में केसर की खेती, किसानों को दे रहे हैं ट्रेनिंग

रमेश गेरा ने अपनी इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई 1980 में NIT कुरुक्षेत्र से की। इसके साथ ही रमेश ने कई मल्टीनेशनल कंपनियों में जॉब भी की। नौकरी के दौरान बाहर के देशों में उन्हें कृषि के नए-नए तरीके देखने को मिले। वहां से तकनीक देखकर भारत में केसर की खेती चालू की।

मिलेट बेकरी millet bakery
एग्री बिजनेस, न्यूज़, फ़ूड प्रोसेसिंग

कैसे Startup India के तहत शुरू की मिलेट बेकरी? छत्तीसगढ़ की हेमलता ने Millets के दम पर खड़ा किया स्टार्टअप

मिलेट से बने व्यंजनों की वैरायटी लिस्ट काफ़ी लंबी है। छत्तीसगढ़ की रहने वाली हेमलता ने Startup India के तहत मिलेट बेकरी (Millet Bakery) की शुरुआत की।

Pearl Farming: मोती की खेती से लाखों कमा रही 'पर्ल क्वीन' पूजा विश्वकर्मा, जानिए उनकी स्ट्रेटजी
सक्सेस स्टोरीज, इनोवेशन, एग्री बिजनेस, टेक्नोलॉजी, पशुपालन और मछली पालन, मछली पालन तकनीक, सफल महिला किसान

Pearl Farming: मोती की खेती से लाखों कमा रही ‘पर्ल क्वीन’ पूजा विश्वकर्मा, जानिए उनकी स्ट्रेटजी

पूजा विश्वकर्मा ने 6 साल पहले 40 हज़ार रुपये की लागत से मोती की खेती का व्यवसाय शुरु किया। लगातार 2 साल तक संघर्ष करने के बाद उन्हें सफलता मिली।

Scroll to Top