किसानों का Digital अड्डा

MP में किसान फंदे पर झूला, सुसाइट नोट में लिखा, मेरा अंग-अंग बेचकर शासन का पैसा चुका देना

सरकारें किसानों को राहत देने के भले ही कितने दावे करे, लेकिन बिजली विभाग की प्रताड़ना के चलते मध्यप्रदेश के छतरपुर जिले का एक किसान फांसी के फंदे पर झूल गया। किसान का शव खेत के पेड़ पर लटका मिला।

सरकारें किसानों को राहत देने के भले ही कितने दावे करे लेकिन बिजली विभाग की प्रताड़ना के चलते मध्यप्रदेश के छतरपुर जिले का एक किसान फांसी के फंदे पर झूल गया। किसान का शव खेत के पेड़ पर लटका मिला। पुलिस को उसके पास से एक सुसाइट नोट भी मिला है।

सुसाइट नोट में किसान ने लिखा है कि मेरे शरीर का अंग-अंग बेचकर शासन पैसे वसूल ले। उधर कृषि मंत्री कमल पटेल के मुताबिक मामले की जांच की जा रही है, इसमें जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

ये भी देखें : जानिए GM फसलों के क्या लाभ और हानियां हैं?

ये भी देखें : देश में बनाए जाएंगे दस हजार FPO, किसानों को होंगे ये बड़े फायदे

KisanOfIndia Youtube

किसान पर था 88 हजार रुपए का बिजली बिल बकाया

मध्यप्रदेश के छतरपुर जिला स्थित गांव मातगंवा के किसान मुनेंद्र राजपूत पर 88 हजार रुपये का बिजली बिल बकाया था। बिजली बिल की राशि वसूलने के लिए बिजली विभाग के कर्मचारी उसे लगातार प्रताड़ित कर रहे थे। प्रताड़ना से परेशान किसान ने घातक कदम उठाया। उसका शव पेड़ से लटका मिला है. किसान के पास से मिले सुसाइट नोट में किसान ने बिजली विभाग द्वारा प्रताड़ित किए जाने का जिक्र किया है।

उसने लिखा है कि ‘बकाया बिजली बिल के लिए विभाग के कर्मचारी लगातार परेशान कर रहे हैं। यहां तक कि मेरी बाइक भी उठा ले गए। मेरे मरने के बाद मेरा शरीर सरकार को सौंप दिया जाए ताकि मेरे शरीर का एक-एक अंग बेचकर बिजली विभाग का बकाया पैसा वसूल हो सके। बताया जाता है कि मृतक को बिजली विभाग का 50 हजार का बकाया बिल देना था। इसके ऊपर 38000 की पेनल्टी भी लगाई गई थी। मृतक किसान ने अपने सुसाइड नोट में इस बात का जिक्र किया है कि फसल खराब होने की वजह से बिल नहीं चुका पाया।

Kisan of india facebook

ये भी देखें : ऐसे बनवाएं किसान क्रेडिट कार्ड, मिलते हैं कृषकों को ढेरों फायदे

ये भी देखें : कमल ककड़ी खाने से बनेगी सेहत, कैंसर और डायबिटीज से भी मुक्ति मिलेगी

ये भी देखें : सरसों की खेती से जुड़ी जरूरी बातें, जिनसे फसल की पैदावार होगी दुगुनी

किसान ने अपने सुसाइड नोट में यह भी लिखा कि उसकी तीन बेटियां हैं और एक बेटा है। जिनमें से कोई भी अभी 16 साल से अधिक उम्र का नहीं है। उसकी मौत के बाद से परिवार के लोगों का रो-रोकर बुरा हाल है। उधर छतरपुर के एडिशनल एसपी समीर सौरभ का कहना है कि मामले की जांच शुरू कर दी गई है।

किसान के पिता रिटायर्ड बिजली कर्मचारी हैं। बिजली बिल न देने पर विभाग के लोग कुर्की की कार्रवाई करते हुए इसकी बाइक ले गए थे। ऐसे में ये कारण हो सकता है लेकिन अभी तक ये स्पष्ट नहीं है। जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी।

Kisan of India Twitter

कृषि मंत्री बोले आत्महत्या नहीं करनी थी

उधर प्रदेष के कृषि मंत्री कमल पटेल किसान के आत्महत्या पर कहते हैं कि किसान को आत्महत्या नहीं करनी थी, उसे संघर्ष करना चाहिए था। आत्महत्या किसी बात का समाधान नहीं है। उन्होंने कहा कि मामले की जांच कराई जा रही है, जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

सम्पर्क सूत्र: किसान साथी यदि खेती-किसानी से जुड़ी जानकारी या अनुभव हमारे साथ साझा करना चाहें तो हमें फ़ोन नम्बर 9599273766 पर कॉल करके या [email protected] पर ईमेल लिखकर या फिर अपनी बात को रिकॉर्ड करके हमें भेज सकते हैं। किसान ऑफ़ इंडिया के ज़रिये हम आपकी बात लोगों तक पहुँचाएँगे, क्योंकि हम मानते हैं कि किसान उन्नत तो देश ख़ुशहाल।
मंडी भाव की जानकारी
 

ये भी पढ़ें:

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.