किसानों का Digital अड्डा

Punjab में निकाय चुनाव में किसानों को रिझाने में जुटे प्रत्याशी, ‘ट्रैक्टर पर बैठा किसान’ चुनाव चिह्न की सबसे अधिक मांग

पंजाब (Punjab) में 14 फरवरी को होने वाले नगर निकाय चुनाव (Municipal Corporation Elections) की सरगर्मी बढ़ने लगी है। देश में किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं। ऐसे में निकाय चुनाव में खड़े होने वाले भावी उम्मीदवार इसे भुनाने में लगे हुए हैं।

निर्दलीय उम्मीदवारों के बीच चुनाव चिह्न के तौर पर ‘ट्रैक्टर पर बैठा किसान’ की सबसे अधिक मांग दिख रही है। प्रत्याशी यह उम्मीद जता रहे हैं कि उन्हें निकाय चुनावों में इस चुनाव चिह्न के साथ किसानों का समर्थन मिलेगा।

ये भी देखें : एलोवेरा की प्रोसेसिंग यूनिट खोलकर बन जाएं करोड़पति, पढ़ें पूरी खबर

ये भी देखें : ऐसे बनवाएं किसान क्रेडिट कार्ड, मिलते हैं कृषकों को ढेरों फायदे

मोहाली के पूर्व महापौर कुलवंत सिंह ने कहा कि उन्हें भी यह चिह्न मंजूर हुआ है। एक अधिकारी ने कहा कि नवांशहर निगम समिति के 19 वार्ड में करीब सात निर्दलीय उम्मीदवार इस चुनाव चिह्न के साथ किस्मत आजमा रहे हैं।

ये भी देखें : नौकरी जाने के बाद शुरू किया हर्बल टी का बिजनेस, आज कमाते हैं लाखों रूपए

ये भी देखें : इस मशीन से बिना पराली जलाए करें गेहूं की बुवाई, पाएं प्रदूषण से छुटकारा

ये भी देखें : मोती की खेती है मुनाफे का सौदा, ध्यान रखें ये बातें तो कर देगी मालामाल

किसान परिवार से ताल्लुक रखने वाले कुलदीप सिंह सिद्धू ने कहा, “कहते हैं कि किसान आंदोलन देश में चल रहा है। इस स्थिति में यह चिह्न प्रत्येक निर्दलीय उम्मीदवार को भा रहा है। हालांकि इस चुनाव चिह्न को आवंटित करने से पहले अधिकारियों ने कहा कि जिन वार्ड में इस चिह्न की मांग करने वालों की संख्या अधिक रही, वहां ड्रॉ निकाला गया।”

बता दें कि पंजाब में 14 फरवरी को होने वाले नगर निकाय चुनावों में कुल 9,222 उम्मीदवार मैदान में हैं। राज्य चुनाव कार्यालय के मुताबिक, कुल 9,222 उम्मीदवारों में से 2,832 प्रत्याशी निर्दलीय हैं।

Kisan Of India Instagram

सम्पर्क सूत्र: किसान साथी यदि खेती-किसानी से जुड़ी जानकारी या अनुभव हमारे साथ साझा करना चाहें तो हमें फ़ोन नम्बर 9599273766 पर कॉल करके या [email protected] पर ईमेल लिखकर या फिर अपनी बात को रिकॉर्ड करके हमें भेज सकते हैं। किसान ऑफ़ इंडिया के ज़रिये हम आपकी बात लोगों तक पहुँचाएँगे, क्योंकि हम मानते हैं कि किसान उन्नत तो देश ख़ुशहाल।
You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.