फसल न्यूज़

Dangerous plants बबूल, गाजरघास और पंचफूली
न्यूज़, फसल न्यूज़

Dangerous Plants: जानिए क्यों बेहद ज़रूरी है बबूल, गाजरघास और पंचफूली जैसी आतंकी फ़सलों का फ़ौरन सफ़ाया

विलायती बबूल, गाजरघास और पंचफूली – जैसे पर्यावरण के दुश्मन बुनियादी तौर पर विदेशी घुसपैठिये हैं। लेकिन आज इनका साम्राज्य देश में करोड़ों हेक्टेयर तक फैल चुका है। ये तेज़ी से हमारी मिट्टी को बंजर बनाकर हज़ारों देसी पेड़-पौधों की प्रजातियों को ख़त्म कर चुके हैं। इसके प्रकोप से खेती की उत्पादकता भी बहुत कम हो जाती है। ऐसे आतंकियों का फ़ौरन सफ़ाया बेहद ज़रूरी है।

अनाज भंडारण प्रबंधन grain storage pest management
न्यूज़, फसल न्यूज़

अनाज भंडारण प्रबंधन: भंडारित अनाज में लगने वाले मुख्य कीट कौन से हैं? कैसे रोकें फसल बर्बादी?

फसल का अच्छा उत्पादन होने भर से ही किसानों की मुश्किलें कम नहीं हो जाती, क्योंकि अच्छे उत्पादन के बावजूद अगर भंडारण ठीक तरह से नहीं किया जाए, तो फसल के एक बड़े हिस्से को कीट नष्ट कर देते हैं। इससे अनाज की बर्बादी के साथ ही उसकी पौष्टिकता भी कम हो जाती है। जानिए अनाज भंडारण प्रबंधन के बारे में कि कैसे कीटों के प्रकोप से फसल को बचाया जा सकता है।

फसल अवशेष
न्यूज़, फसल न्यूज़

Crop Residue Management: क्यों ज़रूरी है फसल अवशेष प्रबंधन? इससे जुड़े ये आंकड़ें जानते हैं आप?

फसल अवशेष जलाने से हमारी ज़मीन में उपलब्ध पोषक तत्वों को हानि होती है। धीरे-धीरे ज़मीन की उर्वरक शक्ति कम होती चली जाती है। साथ ही वायु प्रदूषण बढ़ने जैसी कई घटनाएं हम देख भी चुके हैं।

सोयाबीन की नई किस्में (New Soybean Varieties)
दाल, न्यूज़, फसल न्यूज़

सोयाबीन की नई किस्में: ये किस्में किसानों को देंगी ज़्यादा पैदावार और अच्छा मुनाफ़ा

इन नई किस्मों में से एक किस्म ऐसी है जो किसान एक साल में अलग-अलग दो फसलें के साथ लगा सकते हैं। उन किसानों के लिए ये सोयाबीन की नई किस्में पहली पसंद हो सकती है। इंदौर स्थित सोयाबीन अनुसंधान के भारतीय संस्थान के प्रधान वैज्ञानिक संजय गुप्ता ने इस किस्म को विकसित किया है। 

मिर्च की खेती 5
न्यूज़, फसल न्यूज़, मसालों की खेती

मुनाफ़े वाली मिर्च की खेती के लिए किन बातों का ध्यान रखना है ज़रूरी? जानिए किसान प्रेम पाल से

मिर्च एक प्रमुख नगदी फसल है। मिर्च की खेती किसानों को लखपति बना सकती है, अगर वो सही तरीके से इसकी खेती करें।

सरसों की खेती
सब्जी/फल-फूल/औषधि, तकनीकी न्यूज़, न्यूज़, फल-फूल और सब्जी, फसल न्यूज़, सब्जियों की खेती, सरसों

सरसों की खेती (Mustard Farming): उचित पैदावार के लिए सरसों की उन्नत किस्म और रोग नियंत्रण पर ख़ास ध्यान दें

सरसों की खेती की उन्नत तकनीकें अपनायी जाएँ तो किसान अच्छी आमदनी अर्जित कर सकते हैं। कीटों और बीमारियों से रबी की तिलहनी फसलों को सालाना 15-20 प्रतिशत तक नुकसान पहुँचाता है। कभी-कभार ये कीट उग्र रूप धारण कर लेते हैं तथा फसलों को अत्याधिक हानि पहुँचाते हैं। इसीलिए सरसों या तिलहनी फसलों को कीटों और बीमारियों से बचाना बेहद ज़रूरी है।

धान की सीधी बुआई तकनीक का आसान मतलब है कम लागत में अधिक उत्पादन
कृषि उपकरण, कृषि उपकरण न्यूज़, कृषि उपज, टेक्नोलॉजी, तकनीकी न्यूज़, धान, न्यूज़, फसल न्यूज़, फसल प्रबंधन, राइस प्लांटर

Seed drill farming of paddy: धान की सीधी बुआई तकनीक का आसान मतलब है कम लागत में अधिक उत्पादन

धान की सीधी बुआई तकनीक से 20 प्रतिशत सिंचाई और श्रम की बचत होती है। यानी, कम लागत में धान की ज़्यादा पैदावार और अधिक कमाई। इस तकनीक से मिट्टी की सेहत में भी सुधार होता है, क्योंकि पिछली फसल का अवशेष वापस खेत में ही पहुँचकर उसमें मौजूद कार्बनिक तत्वों की मात्रा में इज़ाफ़ा करता है। इस तकनीक से धान की फसल भी 10 से 15 दिन पहले ही पककर तैयार हो जाती है। खरीफ मौसम में धान की सीधी बुआई को मॉनसून के दस्तक देने से 10-12 दिन पहले करना बहुत उपयोगी साबित होता है।

बागवानी फसलों के उत्पादन का नया रिकॉर्ड
न्यूज़, फसल न्यूज़

Horticultural Crops: बागवानी फसलों के उत्पादन का नया रिकॉर्ड बनने का अनुमान, जानिए आंकड़े

भारत बागवानी फसलों और फलों के सकल उत्पादन में दूसरे स्थान पर है। उत्तर प्रदेश के बाद मध्य प्रदेश और पश्चिम बंगाल बागवानी उत्पादन में शीर्ष राज्य हैं।

रोशा घास की खेती
अन्य खेती, न्यूज़, फसल न्यूज़, विविध

रोशा घास (Palmarosa farming): बंजर और कम उपयोगी ज़मीन पर रोशा घास की खेती से पाएँ शानदार कमाई

भारत में सुगन्धित तेलों के उत्पादन में रोशा घास तेल का एक महत्वपूर्ण स्थान है। देश में बड़े पैमाने पर इसकी इसकी व्यावसायिक खेती होती है। भारत ही इसका सबसे बड़ा उत्पादक है। इससे प्रथम वर्ष में प्रति हेक्टेयर डेढ़ लाख रुपये से ज़्यादा का शुद्ध लाभ मिल सकता है। इससे आगामी वर्षों में मुनाफ़ा और बढ़ता है। रोशा घास की खेती करने के लिए सीमैप, लखनऊ और इससे जुड़े केन्द्रों की ओर से किसानों की भरपूर मदद की जाती है। उन्हें बीज के अलावा ज़रूरी मार्गदर्शन भी उपलब्ध करवाया जाता है।

MSP for kharif crops
न्यूज़, फसल न्यूज़

MSP For Kharif Crops: ख़रीफ़ फसलों की MSP में बढ़ोतरी, जानिए नये रेट

खरीफ़ फसलों की MSP में बढ़ोतरी की गई है। सबसे ज़्यादा MSP में बढ़ोतरी मूंग की फसल में हुई है। देखिए कौन सी फसल पर बढ़ी कितनी एमएसपी।

फूट ककड़ी की खेती
न्यूज़, फसल न्यूज़

सूखा प्रभावित क्षेत्रों के लिए फूट ककड़ी की खेती क्यों है फ़ायदेमंद? 45-48 डिग्री में भी उग जाए

पिछले कुछ साल में फूट ककड़ी की उन्नत किस्मों के विकास और नई तकनीक के प्रयोग से फूट ककड़ी की खेती में इज़ाफा हुआ है। अगर व्यावसायिक तौर पर किसान इसकी खेती कर उत्पाद तैयार करते हैं तो ये अतिरिक्त आमदनी का अच्छा स्रोत बन सकती है।

मोटे अनाज की खेती 1 millets farming
न्यूज़, जलवायु परिवर्तन, फसल न्यूज़, विविध

Millets Farming: मोटे अनाज की खेती के ज़रिये करें जलवायु परिवर्तन की चुनौतियों का मुक़ाबला

हरित क्रान्ति के तहत जैसे-जैसे गेहूँ और धान की पैदावार बढ़ी वैसे-वैसे भारतीय थालियों से पौष्टिक मोटे अनाजों से बने व्यंजन और इसकी प्रति व्यक्ति खपत घटती चली गयी। आम तौर पर धान के मुक़ाबले मोटे अनाजों की पैदावार कम है। लेकिन देश के कुछ ज़िलों में वर्षा आधारित मोटे अनाजों की खेती की उपज धान से बेहतर है। इसीलिए जलवायु अनुकूलन और अनाज उत्पादन बढ़ाने के लिए मोटे अनाज की खेती आज के वक़्त की मांग है।

Nairobi fly नैरोबी मक्खी
न्यूज़, फसल न्यूज़

Nairobi fly: फ़सल की दोस्त तो है ‘नैरोबी मक्खी’ लेकिन इससे बचकर रहें किसान

‘नैरोबी मक्खी’ ना तो इन्सान को काटती है और ना ही कोई डंक मारती है, लेकिन शरीर पर ये जहाँ भी बैठती है वहाँ ‘पेडेरिन’ नामक पदार्थ का स्राव कर देती है। इससे शरीर पर खुजली और जलन होने के अलावा घाव हो जाता है। इसीलिए इसे ‘ड्रैगन बग’ (dragon bug) भी कहा गया है। ‘नैरोबी मक्खी’ को लेकर सबसे अहम हिदायत ये है कि इसके शरीर पर बैठते तो उसे स्पर्श किये बग़ैर उड़ा देना चाहिए तथा यदि शरीर को खुजलाया हो तो उस हाथ से आँखों को छूने से सख़्त परहेज़ करना चाहिए।

फव्वारा तकनीक Sprinkler And Drip Irrigation
टेक्नोलॉजी, तकनीकी न्यूज़, न्यूज़, फसल न्यूज़, फसल प्रबंधन

Sprinkler and Drip Irrigation: पानी बचाकर खेती की कमाई बढ़ाने में बेजोड़ है फव्वारा और बूँद-बूँद सिंचाई

राजस्थान, महाराष्ट्र, आन्ध्र प्रदेश, गुजरात, कर्नाटक, हरियाणा, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु और छत्तीसगढ़ में अब तक 93 प्रतिशत से ज़्यादा खेतीहर ज़मीन को सूक्ष्म सिंचाई विधियों के दायरे में लाया जा चुका है। इस लिहाज़ से राजस्थान की उपलब्धियाँ सबसे आगे है। फव्वारा सिंचाई विधि के आने वाले देश के कुल इलाकों में राजस्थान की हिस्सेदारी एक-तिहाई से ज़्यादा है। दूसरी ओर आन्ध्र प्रदेश, महाराष्ट्र और तमिलनाडु में बूँद-बूँद सिंचाई वाली ड्रिप इरीगेशन के प्रति किसानों में ज़्यादा रुझान दिखाया है।

प्याज़ बीज
न्यूज़, प्याज, फसल न्यूज़

कंद से करें प्याज़ बीज उत्पादन, मिलेगी अधिक फसल

प्याज़ एक प्रमुख सब्ज़ी और मसाला फसल है। इसकी खासियत यह है कि इसे सब्ज़ी के रूप में इस्तेमाल करने के साथ ही मसाले के तौर पर भी प्रयोग में लाया जाता है। कोई भी मसालेदार सब्ज़ी प्याज़ के बिना अधूरी है। प्याज़ की मांग पूरे साल बनी रहती है, इसलिए इसका उत्पादन किसानों के लिए फ़ायदेमंद है। प्याज़ की अच्छी फसल के लिए उच्च गुणवत्ता वाले बीजों का उपलब्ध होना ज़रूरी है।

मेंथा
एग्री बिजनेस, न्यूज़, फसल न्यूज़, सब्जी/फल-फूल/औषधि

मेंथा की अच्छी फसल के लिए ज़रूरी है कीट प्रबंधन

खुशबूदार मेंथा जिसे पुदीना या पेपरमिंट भी कहा जाता है कि खेती भारत के कई राज्यों में बड़े पैमाने पर की जाती है, मगर किसानों को कीट व रोगों की वजह से फसल की भारी हानि का सामना भी करना पड़ता है।

Poplar Tree Farming: पोपलर के पेड़
न्यूज़, अन्य खेती, फसल न्यूज़, विविध

Poplar Tree Farming: पोपलर के पेड़ लगाकर पाएँ शानदार और अतिरिक्त आमदनी

पोपलर, सीधा तथा तेज़ी से बढ़ने वाला वृक्ष है। सर्दियों में इसकी पत्तियों के झड़ जाने से रबी की फ़सलों को मिलने वाली धूप की मात्रा में कोई ख़ास कमी नहीं होती। इसी तरह, पोपलर की छाया से ख़रीफ़ फ़सलों को भी कोई ख़ास नुकसान नहीं पहुँचता है।

ओलावृष्टि hailstorm in madhya pradesh
न्यूज़, फसल न्यूज़, मौसम, विविध

बेमौसम बारिश और बदलते मौसम से फसलों पर पड़ता असर, ओलावृष्टि से नुकसान पहुंचने की खबरें

मध्य प्रदेश अपने समृद्ध कृषि उद्योग के लिए जाना जाता है। हालांकि, हाल के वर्षों में बार-बार होने वाली ओलावृष्टि से किसानों की फसलों पर असर पड़ा है।

लेमनग्रास की खेती
सक्सेस स्टोरीज, अन्य सब्जी, न्यूज़, फल-फूल और सब्जी, फसल न्यूज़, सफल महिला किसान, सब्जियों की खेती

Lemongrass Farming: लेमनग्रास की खेती से इन ग्रामीण महिलाओं की आमदनी में ज़बरदस्त इज़ाफ़ा, एक बार लगाएं और 5 साल तक आराम

लेमनग्रास भले ही ग्रामीण क्षेत्रों में लोकप्रिय न हो, मगर अतिरिक्त आमदनी प्राप्त करने का यह अच्छा ज़रिया है। लेमनग्रास की खेती बंजर भूमि में भी आसानी से की जा सकती है।

ड्रैगन फ्रूट की खेती
अन्य फल, एग्री बिजनेस, न्यूज़, फल-फूल और सब्जी, फलों की खेती, फसल न्यूज़

Dragon Fruit Farming: ड्रैगन फ्रूट की खेती से कैसे कमायें सालाना प्रति एकड़ 6 से 7 लाख रुपये?

ड्रैगन फ्रूट की खेती में बढ़िया मुनाफ़ा होता है। फिर भी बहुत कम किसान ही ड्रैगन फ्रूट की पैदावार करते हैं। ड्रैगन फ्रूट को कम सिंचाई की ज़रूरत पड़ती है। पशुओं द्वारा चरे जाने और फसल में कीड़े लगने का जोख़िम भी ड्रैगन फ्रूट की खेती में नहीं है।

Scroll to Top