किसानों का Digital अड्डा

आखिर क्यों किसान को फेंकनी पड़ी सड़क पर 10 क्विंटल फूल गोभी, पढ़कर आप भी सोचने पर हो जाएंगे मजबूर

हाल ही में केंद्र सरकार 3 कृषि लाई किसानों सशक्त करने के लिए लेकिन उसका किसान ही विरोध कर रहे हैं। तर्क दिया जा रहा है कि इससे APMC खत्म हो जाएंगी। किसानों का कहना है कि APMC में उन्हें सही उपज के दाम मिलते हैं। लेकिन उत्तर प्रदेश के पीलीभीत से जो मामला सामने आया है उसे बाकी आंदोलनरत किसानों को एक बार जरुर पढ़ना चाहिए।

ये भी देखें : किसानों को मिलेगा 16.5 लाख करोड़ का लोन, फसलों पर लागत का डेढ़ गुना एमएसपी भी

ये भी देखें : 70 हजार गांवों के वेलनेस सेंटर्स होंगे हाइटेक, कोराना वैक्सीनेशन हो जायेगा आसान

किसान ने फेंकी सड़क पर फूलगोभी

मामला पीलीभीत का है। जहां एक किसान ने सड़क पर 10 क्विंटल फूलगोभी फेंक दी। दरअसल किसान को बाजार में फूलगोभी की 1 रुपये प्रति किलोग्राम भाव की पेशकश मिल रही थी। इसी बात से किसान नाराज होकर अपनी 10 क्विंटल फूलगोभी की उपज को सड़क पर फेंक आया। उसने जरूरतमंदों और गरीबों को सड़क पर फेंकी गोभी को मुफ्त में ले जाने दिया। पीलीभीत में कृषि उपज मंडी समिति यानि एपीएमसी के परिसर में लाइसेंस वाले व्यापारियों ने गोभी की कीमत सिर्फ 1 रुपए लगाई। इतनी कम कीमत सुनकर किसान परेशान हो गया। इसीलिए उसने ऐसा किया।

ये भी देखें : जानिए GM फसलों के क्या लाभ और हानियां हैं?

ये भी देखें : देश में बनाए जाएंगे दस हजार FPO, किसानों को होंगे ये बड़े फायदे

जहानाबाद के किसान, मोहम्मद सलीम का कहना है कि व्यापारी ने उनकी फसल के लिए गोभी प्रति किलो 1 रुपये कीमत बताई थी। जो उनकी उपज को एपीएमसी परिसर में लाने के परिवहन लागत से भी कम थी। किसान का कहना है कि मेरे पास आधा एकड़ जमीन है, जहां मैंने फूलगोभी की खेती की थी और बीज, सिंचाई, उर्वरक आदि पर लगभग 8,000 रुपये खर्च किए थे।

मुझे फसल लाने के लिए वाहन का 4,000 रुपये का किराया देना पड़ा था। वर्तमान में फूलगोभी का खुदरा मूल्य 12 से 14 रुपये प्रति किलोग्राम है और मैं अपनी उपज के लिए कम से कम 8 रुपये प्रति किलोग्राम की उम्मीद कर रहा था। जब मुझे मात्र 1 रुपये प्रति किलोग्राम की पेशकश की गई, तो मेरे पास अपने सभी फूलगोभी को फेंकने के अलावा कोई विकल्प नहीं था जिससे कि इसे वापस ले जाने में आने वाले परिवहन लागत को बचा सकूं।”

सुनिए किसान की दर्द भरी कहानी

किसान सलीम का कहना है कि उन्हें अब निजी ऋण ज्यादा ब्याज दर पर लेना होगा क्योंकि वाणिज्यिक बैंक गरीब किसानों को ऋण सुविधा देने को लेकर तैयार नहीं है। सलीम के परिवार में 60 साल की मां, छोटा भाई, पत्नी और दो स्कूल जाने वाले बच्चे हैं। लेकिन फसल की उचित कीमत न मिलने पर वो भुखमरी की कगार पर पहुंच गए हैं। अब घर चलाने के लिए मजदूरी करने को मजबूर हैं।

Kisan Of India Instagram

सम्पर्क सूत्र: किसान साथी यदि खेती-किसानी से जुड़ी जानकारी या अनुभव हमारे साथ साझा करना चाहें तो हमें फ़ोन नम्बर 9599273766 पर कॉल करके या [email protected] पर ईमेल लिखकर या फिर अपनी बात को रिकॉर्ड करके हमें भेज सकते हैं। किसान ऑफ़ इंडिया के ज़रिये हम आपकी बात लोगों तक पहुँचाएँगे, क्योंकि हम मानते हैं कि किसान उन्नत तो देश ख़ुशहाल।
You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.