किसानों का Digital अड्डा

इन मशीनों से आसान होगा किसान भाईयों का काम, फटाफट कटेगी फसल, साथ में दूसरे काम भी आएंगी

बाजार में ऐसी आधुनिक मशीनें आ गई हैं, जिनसे फसल की कटाई का काम बड़ी सरलता से पूरा हो जाता है।

पहले जिस काम को करने में कई दिन लग जाते थे अब मशीनों की मदद से वही काम कम समय में पूरा हो जाता है।

Reaper Binder machines benefits and price for farmers किसानों को गेहूं या अन्य फसलों की कटाई करते समय काफी मुश्किल स्थिति का सामना करना पड़ता हैं ऐसे में सबसे अहम और बड़ी समस्या है मजदूर। फसल कटाई के समय मजदूर आसानी से नहीं मिलते हैं। ऐसे में ब्रश कटर किसानों के लिए बेहद मददगार साबित हो सकती है।

ब्रश कटर की मदद से फसल काटने के अलावा खेती से जुड़े कई कार्य किये जा सकते हैं। इस मशीन की सहायता से आप गेहूं समेत सभी खड़ी फसल जैसे चना, बरसीम, ज्वार, मक्का, चारा आसानी से काट सकते हैं। आज हम आपको कुछ ऐसी मशीनों के बारे में बताएंगे जो किसानों के लिए काफी मददगार साबित हो सकती हैं।

ये भी देखें : सरकार लाई है किसानों के लिए खुशखबरी, नए नियमों से होंगे फायदे ही फायदे

ये भी देखें : रीपर बाइंडर मशीन, 50 प्रतिशत में पाएं और समय बचाएं

ट्रैक्टर चलित रीपर बाइंडर

ट्रैक्टर चलित रीपर बाइंडर जो किसानों के लिए बहुत उपयोगी है। इसमें कटर बार से पौधे कटने के बाद पुलों में बंध जाते हैं तथा उन्हें संचरण प्रणाली द्वारा एक और गिरा दिया जाता है। इस मशीन द्वारा कटाई एवं बंधाई का कार्य बहुत सफाई से किया जा सकता है। किसानों के बीच इसकी लोकप्रियता काफी तेजी से बढ़ रही हैं। इसकी कीमत लगभग 295000 रूपए है।

ये भी देखें : बेड प्लांटर मशीन से बढ़ेगी गेहूं की पैदावार, जानिए इसकी कीमत और फायदे

ये भी देखें : कंबाइन हार्वेस्टर मशीन से करें समय की बचत, कमाएं अधिक मुनाफा, ये हैं खासियतें

ये भी देखें : किसानों-बागवानों को लोन चुकाने के लिए मिला 2021 तक का समय

ये भी देखें : आलू बोने के लिए महिन्द्रा ने बनाई प्लांटिंगमास्टर मशीन, जानिए कैसे काम करती है

स्वचालित वर्टिकल कनवेयर रीपर

स्वचालित वर्टिकल कनवेयर रीपर यंत्र गेहूं कटाई एवम् छोटे दर्जे के किसानों की एक उपयोगी मशीन है। इसमें आगे की ओर एक कट्टर बार लगी होती है तथा उसके पीछे संचरण प्रणाली लगी होती हैं। इस रीपर में अपने स्वयं का लगभग 5 हॉर्स पावर का एक डीजल इंजन लगा होता है जो इसके पहियों तथा कटर बार को शक्ति संचरण का कार्य करता है।

गेहूं कटाई के लिए इसकी कटर बार को आगे रखकर इसके हैंडिल से पकडक़र किसान को इसके पीछे चलना होता है। कटर बार गेहूं के पौधों को काटती हैं तथा संचरण प्रणाली द्वारा पौधे एक लाइन में बिछा दिए जाते हैं। इसके बाद श्रमिकों द्वारा उनको इकट्ठा कर लिया जाता है। इसकी लागत लगभग  100000 रूपए है।

ट्रैक्टर चलित रीपर कटर

ट्रैक्टर चलित रीपर कटर के अलावा संचरण प्रणाली स्वचालित वर्टिकल कनवेयर रीपर की तरह होती हैं। लेकिन इस मशीन को ट्रैक्टर की सहायता से चलाया जाता है। कटर बार को शक्ति संचरण का कार्य ट्रैक्टर की पी.टी.ओ. शाफ्ट की सहायता से चलाया जाता है। इसकी कट्टर बार सामान्यतया वर्टिकल कन्वेयर रीपर की कटर बार से अधिक लंबी होती हैं। इस मशीन से भी गेहूं के पौधे कटर बार से काटकर संचरण प्रणाली द्वारा एक और लाइन में बिछा दिया जाता है। जिन्हें बाद में पुलों में बंधवा दिया जाता है।

स्वचालित रीपर बाइंडर

स्वचालित रीपर बाइंडर गेहूं कटाई के साथ-साथ उनको पुलों में बांधने का काम भी मशीन द्वारा ही हो जाता है। एक तरह से यह कहा जा सकता है कि यह स्वचालित वर्टिकल कन्वेयर रीपर का अधिक विकसित रूप है। इसमें ना केवल पौधों को पुलो में बांधने हेतु इकाई भी लगी होती है। वरन किसान के बैठने हेतु व्यवस्था भी होती है। जिससे उसका कार्य स्वचालित वर्टिकल कन्वेयर की तुलना में अधिक आरामदायक रूप से हो जाता है और पुलों को भी अलग से बांधना नहीं होता है।

इस मशीन से पहले पौधे कटर बार से कटकर बांधने की इकाई द्वारा पुलों में बंध जाते हैं तथा कटर बार एवं बैठने की सीट के मध्य खेत में गिरा दिए जाते है। इन पुलो को बाद में एकत्रित कर लिया जाता है। इस मशीन में तीन पहिये होते हैं परन्तु वर्तमान में चार पहियों वाली मशीन उपलब्ध हो गई है। इसकी कीमत लगभग 325000 रूपए है।

कंबाइन हार्वेस्टर मशीन

कंबाइन हार्वेस्टर मशीन बड़े किसानों के लिए अत्यधिक उपयोगी हैं। इसमें गेहूं की कटाई के साथ-साथ उनकी गहाई का कार्य भी हो जाता है और हमें साफ दाना प्राप्त हो जाता है। बाजार में दो प्रकार केे कंबाइन हार्वेस्टर उपलब्ध है। पहला स्वचालित व दूसरा ट्रैक्टर चालित। ये दोनों ही कंबाइन हार्वेस्टर किसानों के लिए काफी उपयोगी है। इन कंबाइन हार्वेस्टर मशीनों में सबसे आगे 2 से 6 मीटर लंबे कटरबार लगे होते हैं।

कंबाइन हार्वेस्टर की रील का काम खड़ी फसल को काटने वाली यूनिट तक पहुंचाना होता है। कटर बार के चाकू से फसल काटता है। इसके बाद फसल कन्वेयर बेल्ट के जरिए रेसिंग यूनिट में पहुंच जाती है। यहां पर फसल के दाने ड्रेसिंग ड्रम और कंक्रीट क्लीयरेंस से रगडऩे पर अलग-अलग हो जाते हैं। साथ ही छलनी से अनाज साफ हो जाता है और ब्लोवर से पैरा अलग हो जाता है। कंबाइन हार्वेस्टर में एक स्टोन ट्रैप यूनिट लगी होती है, जो कि फसल के साथ आने वाले कंकड़, मिट्टी आदि को अलग कर देता है।

Kisan Of India Instagram

सम्पर्क सूत्र: किसान साथी यदि खेती-किसानी से जुड़ी जानकारी या अनुभव हमारे साथ साझा करना चाहें तो हमें फ़ोन नम्बर 9599273766 पर कॉल करके या [email protected] पर ईमेल लिखकर या फिर अपनी बात को रिकॉर्ड करके हमें भेज सकते हैं। किसान ऑफ़ इंडिया के ज़रिये हम आपकी बात लोगों तक पहुँचाएँगे, क्योंकि हम मानते हैं कि किसान उन्नत तो देश ख़ुशहाल।
You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.