किसानों का Digital अड्डा

इन फलों की खेती पर सरकार दे रही भारी सब्सिडी, योजना का ऐसे उठा सकते हैं लाभ

किसानों की आय दोगुना करने की दिशा में एक और कदम

किसानों को गैरपारंपरिक फसलें उगाने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है, ताकि वो कम लागत में अधिक कमाई कर सकें। ऐसे ही बागवानी फसलों की खेती करने में रुचि रखने वालों को सरकार ने आर्थिक मदद मुहैया कराने का निर्णय लिया है।

किसी भी देश की उन्नति उसके कृषि क्षेत्र के विकास पर निर्भर करती है। देश की खाद्य व्यवस्था को स्थिर करने का श्रेय हमारे किसानों को ही जाता है। ये दिन-रात अपने खेत-खलिहानों में पसीना बहाकर लोगों की थाली तक खाना पहुंचाते हैं। भारतीय अर्थव्यवस्था में कृषि क्षेत्र की भूमिका बेहद महत्वपूर्ण है। जनसंख्या का एक बड़ा हिस्सा कृषि क्षेत्र से जुड़ा है।

ऐसे में देश की केंद्र और राज्य सरकारों की ज़िम्मेदारी बनती है कि कैसे किसानों की स्थिति को सुधारा जाए और उनकी आय को दोगुने मुनाफ़े में तब्दील किया जाए।

किसानों की आय दोगुनी करने के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में केंद्र और राज्य सरकारें भी कदम उठा रही हैं। किसानों को नई और बाज़ार की मांग वाली फसलें उगाने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है, जिससे वो कम लागत में अधिक कमाई कर सकें। ऐसे ही बागवानी फसलों की खेती करने में रुचि रखने वालों को सरकार ने आर्थिक मदद मुहैया कराने का निर्णय लिया है।

इसके तहत हरियाणा सरकार किसानों को 90,800 रुपये तक की सब्सिडी देगी। हरियाणा में इन दिनों प्रदेश सरकार फसल विविधीकरण योजना चला रही है। इसका मकसद पारंपरिक फसलों की खेती को छोड़कर महंगी फसलों की खेती के लिए किसानों को प्रोत्साहित करना है। इसके तहत आम और चीकू की खेती के लिए विशेष आर्थिक मदद दी जाएगी।

subsidy on sapota chiku farming haryana government ( चीकू की खेती )

किस फल की खेती पर कितनी मिलेगी सब्सिडी

एक एकड़ चीकू की खेती पर 18,160 रुपये का खर्च आएगा। इस पर 9080 रुपये प्रति एकड़ की दर से 50 प्रतिशत सब्सिडी किसान को दी जाएगी। यह सब्सिडी अधिकतम 10 एकड़ के क्षेत्र के लिए मिलेगी। यानी इस योजना के तहत एक किसान 90,800 रुपये की सब्सिडी ले सकता है।

इसी तरह आम की खेती के लिए 10,200 रुपये प्रति एकड़ की लागत आती है। इसमें भी 50 प्रतिशत यानि कि 5100 रुपये प्रति एकड़ की दर से सब्सिडी दी जाएगी। इसमें भी अधिकतम  10 एकड़ के क्षेत्र के लिए सब्सिडी होगी। यानी किसी एक किसान को अधिकतम 51,000 रुपये तक की आर्थिक सहायता मिलेगी।

योजना का लाभ उठाने के लिए यहां करें आवेदन 

योजयं का लाभ पाने के लिए इच्छुक किसान को हरियाणा सरकार के Hortharyanaschemes.in ऑनलाइन पोर्टल पर जाना होगा। फिर ऑनलाइन पंजीकरण कराना होगा। पंजीकरण फ़ॉर्म में आवेदक को अपना व्यक्तिगत विवरण भरना होगा। नाम, पता, मोबाइल नंबर, पहचान पत्र से संबंधित जानकारी देनी होगी। साथ ही खेती की ज़मीन के साथ-साथ बैंक का विवरण भी देना होगा।

फिर पहले पेज पर मांगी गई इन सारी जानकारियों को भरने के बाद सेव पर क्लिक कर दें। इसके बाद अपना मद चुने और अपडेट पर क्लिक कर दें। फिर योजना पटल पर जाकर योजना स्कीम चुनें। अप्लाई पर क्लिक करने के बाद फ़ॉर्म में मांगी गई जानकारी भरें। फिर दस्तावेजों को अपडेट कर सेव कर दें।

Kisan of India Instagram
सम्पर्क सूत्र: किसान साथी यदि खेती-किसानी से जुड़ी जानकारी या अनुभव हमारे साथ साझा करना चाहें तो हमें फ़ोन नम्बर 9599273766 पर कॉल करके या [email protected] पर ईमेल लिखकर या फिर अपनी बात को रिकॉर्ड करके हमें भेज सकते हैं। किसान ऑफ़ इंडिया के ज़रिये हम आपकी बात लोगों तक पहुँचाएँगे, क्योंकि हम मानते हैं कि किसान उन्नत तो देश ख़ुशहाल।
मंडी भाव की जानकारी
ये भी पढ़ें:
You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.