किसानों का Digital अड्डा

रबी सीजन में होगी बंपर पैदावार, किसानों के यहां आएगी खुशहाली

रिपोर्ट में कहा गया है कि मुख्य रुप से बेमौसम बारिश के कारण कम पैदावार के कारण कुछ राज्यों में कृषि आय प्रभावित हुई है। इसमें कहा गया है कि फिर भी अच्छे मानसून के मौसम में उर्वरक और एग्रोकेमिकल की मात्रा में मजबूती से वृद्धि हुई है।

हाल ही में रिलीज की गई मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज (MOFS) ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि रबी सीजन के लिए दृष्टिकोण (आउटलुक) उत्साहजनक बना हुआ है। इससे रबी की फसल आशाजनक होने के संकेत मिलते हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि उर्वरक और एग्रोकेमिकल दिग्गजों ने 2 एचएफवाई 21 में बेहतर प्रदर्शन की संभावना जताई है।

ये भी देखें : देश के युवाओं के लिए है ‘आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना’ ऐसे करें अप्लाई

ये भी देखें : कृषि के क्षेत्र में इन पदों पर निकली बंपर नौकरियां, ऐसे करें आवेदन

रिपोर्ट में कहा गया है कि मुख्य रुप से बेमौसम बारिश के कारण कम पैदावार के कारण कुछ राज्यों में कृषि आय प्रभावित हुई है। इसमें कहा गया है कि फिर भी अच्छे मानसून के मौसम में उर्वरक और एग्रोकेमिकल की मात्रा में मजबूती से वृद्धि हुई है।

बारिश से उद्योग की मात्रा में सुधार
साल दर साल की अवधि में एक एचएफवाई 21 में बिक्री 15 प्रतिशत तक बढ़कर 3.4 करोड़ टन हो गई है और डीएपी और एनपीकेएस में क्रमशः 28 प्रतिशत और 24 प्रतिशत की मात्रा में वृद्धि हुई है। यूरिया की मात्रा में सात प्रतिशत की वृद्धि हुई है। लगातार दूसरे साल सामान्य से अधिक मानसून वर्षा की वजह से उद्योग की मात्रा में सुधार हुआ है। अच्छे मानसून के कारण बुआई क्षेत्र में 111.7 मीटर हेक्टेयर में पांच प्रतिशत तक की वृद्धि हुई है।

मिल सकती है किसानों को राहत
1 एचएफवाई 21 में कुल उर्वरक बिक्री में से डीएपी और एनपीकेएस में 28 प्रतिशत और 24 प्रतिशत की उच्चतम मात्रा देखी गई है। इधर, देश में किसान आंदोलन थमने का नाम नहीं ले रहा है। सरकार के तमाम प्रयासों के बावजूद भी आंदोलन खत्म नहीं हो रहा है। इस बीच, रबी की फसल अच्छी होने की खबर से किसानों को राहत मिल सकती है।

सम्पर्क सूत्र: किसान साथी यदि खेती-किसानी से जुड़ी जानकारी या अनुभव हमारे साथ साझा करना चाहें तो हमें फ़ोन नम्बर 9599273766 पर कॉल करके या [email protected] पर ईमेल लिखकर या फिर अपनी बात को रिकॉर्ड करके हमें भेज सकते हैं। किसान ऑफ़ इंडिया के ज़रिये हम आपकी बात लोगों तक पहुँचाएँगे, क्योंकि हम मानते हैं कि किसान उन्नत तो देश ख़ुशहाल।
मंडी भाव की जानकारी

ये भी पढ़ें:

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.