किसानों का Digital अड्डा

देवास मॉडल से बचाया जा सकता है बारिश का पानी

देवास मॉडल: बारिश के पानी को बचाने बचाने की बातें तो बहुत सालों से की जाती रही हैं और यह पानी बचाया भी जाता रहा है। पिछले कुछ सालों से पानी के घटते स्तर को देखते हुए बारिश के पानी को बचाने का काम बड़े स्तर पर किया जाता रहा है।

मध्यप्रदेश के देवास में भी बारिश के पानी को इकट्ठा करने की एक तकनीक शुरू की गई थी। यह करीब 15 साल पहले शुरू हुई थी।

Kisan of India Youtube

ये भी देखें : नौकरी छोड़ किसानों को सिखाए खेती के गुर, खुद भी कमा रहे लाखों

ये भी देखें : जानवर खा जाते हैं आपकी फसलें तो करेले की खेती कर कमाएं लाखों

ये भी देखें : कम लागत में शुरू करें गोबर से टाइल्स बनाना, ग्रामीण क्षेत्रों के लिए है फायदे का सौदा

इसमें एक भूगर्भ वैज्ञानिक ने मकानों की छत से बहने वाले बारिश के पानी को जमीन में पहुंचाने के लिए एक सस्ती व आसान रूफ वॉटर हार्वेस्टिंग तकनीक विकसित की थी। इस तकनीक की चर्चा पूरे देश में देवास मॉडल के नाम से हुई थी। इस तकनीक को लागू करने की जि मेदारी सरकार द्वारा स्थानीय स्वशासी संस्थाओं को दी गई थी, लेकिन इस पर ढंग से अमल नहीं किया गया। यदि इस तकनीक को सही तरीके से लागू किया जाता तो हर साल बारिश का जो सैकड़ों गैलन पानी नदी नालों में चला जाता है वो काफी हद तक बचाया जा सकता था।

ये भी देखें : हर खाद के कट्टे के साथ IFFCO दे रहा है दुर्घटना बीमा, किसानों को होगा लाभ

ये भी देखें : 10 राज्यों में 320.33 करोड़ रू. की परियोजनाओं से 10,000 से ज्यादा को मिलेगा रोजगार

ये भी देखें : सिर्फ 10 पेड़ों से कोसमी लाख की खेती कर छह माह में कमाएं ढाई लाख रुपए

ये भी देखें : गंगा एक्सप्रेस वे के लिए 90% भूमि अधिग्रहण का कार्य जून 2021 तक

क्या है रूफ वॉटर हार्वेस्टिंग मॉडल

इस मॉडल में बारिश का पानी मकानों की छतों से पीवीसी पाइप के जरिये होता हुआ अन्य जल स्रोतों तक भेजा जाता है। जैसे कुआं, बावड़ी, नलकूप, हैंडपंप आदि। इस तकनीक से पानी मृदु होकर स्वादिष्ट भी हो जाता है। इसमें विशेष प्रकार के फिल्टर का प्रयोग किया जाता है, जिससे जल के साथ किसी प्रकार की अशुद्धि जलस्रोतों में न जा सके। इस तकनीक के जरिये साल भर में 1000 वर्गफीट की छत से लगभग 1 लाख लीटर पानी जलस्रोतों तक पहुंचाया जा सकता है। शुरुआत में यह तकनीक खर्चीली थी लेकिन बाद में इसे सस्ता किया गया।

कैसे हुई देवास मॉडल की शुरुआत

इस मॉडल को विकसित किया भूजलविद् सुनील चतुर्वेदी ने। वे बताते हैं कि पिछले कुछ सालों से पानी की कमी देखी जा रही थी। आज भी है। लेकिन कुछ इलाकों में तो हालात बेहद चिंताजनक हो गए। बारिश भी अनियमित होती जा रही थी। भविष्य में क्या होगा यह सोचकर भी मन घबरा जाता था। बस, इसी सोच ने मुझे कुछ करने का हौसला दिया। मैंने भू-विज्ञान तो पढ़ ही रखा था।

सोचा क्यूं ना कुछ ऐसा करूं जिससे जमीन को पानी मिलता रहे और बारिश का लाखों गैलन पानी व्यर्थ बहने की बजाय जमीन में पहुंचकर उसका जल स्तर बढ़ा सके। इस काम में देवास के कलेक्टर एम मोहन राव ने काफी मदद की। इस तरह 15 मई 1999 को देवास में देश के पहले भू-जल संवर्धन मिशन की शुरुआत की गई।

वर्ष 2000 में इस तकनीक को इंटरनेशनल व्यापार मेले में अवार्ड भी मिला। इस तकनीक को देशभर में इतनी प्रशंसा और सराहना मिली कि सेंट्रल ग्राउंड वाटर बोर्ड की अनुशंसा पर केंद्र सरकार ने वर्ष 2002 में इसे देशभर में अनिवार्य कर दिया। अब नगर निगम व नगर पालिकाएं जैसी स्थानीय संस्थाओं द्वारा नए मकानों का नक्शा पास करने से पहले यह सुनिश्चित किया जाता है कि उनमें देवास मॉडल रूफ वॉटर हार्वेस्टिंग लगाए जाए। देश में जल संकट को देखते हुए इस तरह की तकनीकों पर जोर देना जरूरी है।

कैसे काम करती है देवास तकनीक

इसमें मकान की छत की ढलान के अनुसार बरसाती पानी के आउटलेट से जल स्रोत तक पीवीसी पाइप लगाए जाते हैं। इसी पाइप लाइन में एक फिल्टर भी लगाया जाता है। इस प्रक्रिया से आकाश का पानी पाताल तक पहुंचाया जाता है। 140 मिमी. व्यास व 1.2 मीटर पीवीसी पाइप में फिल्टर के लिए 6 से 12 मिमी. लंबे व 12 से 20 मिमी. व्यास वाले बोल्डर फिल्टर मेटेरियल के रूप में भर दिए जाते हैं।

इसके बाद 6 मिमी. व्यास के कम छिद्रों वाली एक तार की जाली पाइप के दोनों सिरों पर लगाकर उसमें 140/63 मिमी. के रिड्युसर लगा दिए जाते हैं। जो फिल्टर नलकूप की ओर होता है उस पर 63 मिमी. की टी भी लगा दी जाती है। फिल्टर लगाने से पहले पाइप लाइन में ड्रेन वॉल्व लगाना जरूरी है ताकि बारिश के शुरुआती पानी को ड्रेन किया जा सके।

Kisan Of India Instagram

सम्पर्क सूत्र: किसान साथी यदि खेती-किसानी से जुड़ी जानकारी या अनुभव हमारे साथ साझा करना चाहें तो हमें फ़ोन नम्बर 9599273766 पर कॉल करके या [email protected] पर ईमेल लिखकर या फिर अपनी बात को रिकॉर्ड करके हमें भेज सकते हैं। किसान ऑफ़ इंडिया के ज़रिये हम आपकी बात लोगों तक पहुँचाएँगे, क्योंकि हम मानते हैं कि किसान उन्नत तो देश ख़ुशहाल।
You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.