8 Varieties Of Mustard: सरसों की इन 8 उन्नत किस्मों से लेकर सरसों उत्पादन से जुड़ी अहम जानकारी

यहां हम बाज़ार में मौजूद सरसों के बीजों की किस्मों (Varieties Of Mustard) के बारे में जानेंगे और ये भी समझेंगे कि सही किस्म को चुनते हुए किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

Varieties Of Mustard सरसों की उन्नत किस्म

Varieties Of Mustard | सरसों की खेती (Mustard Farming) भारत के कृषि क्षेत्र में वर्षों से चली आ रही है है। हज़ारों साल पुराने समृद्ध इतिहास के साथ, सरसों की खेती हमारे देश और लोगों के लिए एक ज़रूरी कृषि पद्धति बन गई है। ये मज़बूत तिलहन फसल न सिर्फ़ देश की अर्थव्यवस्था में योगदान देती है, बल्कि भारतीय व्यंजन और संस्कृति का भी अभिन्न अंग है। 

भारत दुनिया भर में सरसों के सबसे बड़े उत्पादकों और उपभोक्ताओं में से एक है, जो वैश्विक उत्पादन का एक तिहाई से अधिक हिस्सा रखता है। देश में लगातार बदलती जलवायु है, जो सरसों की खेती के लिए आदर्श परिस्थितियां बनाती है। इसके अलावा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, पंजाब और हरियाणा सहित भारत के कई राज्य अपनी सरसों की खेती के लिए जाने जाते हैं।

भारत में सरसों की खेती में हाल के वर्षों में बढ़ोतरी देखी गई है। सरसों के बीज से निकाले जाने वाले सरसों के तेल की बढ़ती मांग के कारण सरसों की खेती लगातार बढ़ रही है। भारतीय घरों में खाना पकाने के लिए सरसों के तेल का भरपूर इस्तेमाल किया जाता है, जिससे ये रोज़ के आहार का एक ज़रूरी हिस्सा बन जाता है। सरसों के तेल से जुड़े स्वास्थ्य लाभ, जैसे कि इसकी उच्च ओमेगा -3 फैटी एसिड सामग्री ने उपभोक्ताओं के बीच इसकी लोकप्रियता को और बढ़ा दिया है।

भारतीय रसोई में मुख्य सामग्री होने के अलावा, सरसों के बीजों का व्यावसायिक महत्व भी है। सरसों के बीजों से निकाले गए तेल का इस्तेमाल खाद्य प्रसंस्करण, सौंदर्य प्रसाधन और फार्मास्यूटिकल्स सहित विभिन्न उद्योगों में किया जाता है। इसका उपयोग वनस्पति तेल, मेयोनेज़ और सलाद ड्रेसिंग के लिए भी किया जाता है। सरसों का तेल निकालते हुए कुछ उप-उत्पाद भी निकलते हैं, जैसे सरसों के केक, का उपयोग मवेशियों के चारे के रूप में किया जाता है, जो कृषि क्षेत्र को बड़ा योगदान है।

सर्दियों की शुरुआत भारत में खेती

8 Varieties Of Mustard: सरसों की इन 8 उन्नत किस्मों से लेकर सरसों उत्पादन से जुड़ी अहम जानकारी

सरसों इतनी लोकप्रिय क्यों है? 

भारत में सरसों की खेती की लोकप्रियता का एक मुख्य कारण इसका बहुत सारी अलग अलग चीज़ों में इस्तेमाल होना है। सरसों के बीजों का इस्तेमाल मुख्य रूप से सरसों का तेल निकालने के लिए किया जाता है, जिसका हमारे घरों में इस्तेमाल किया जाता है। सरसों का तेल बहुत पौष्टिक होता है और ओमेगा-3 फैटी एसिड, विटामिन और एंटीऑक्सीडेंट (Antioxidant) से भरपूर होता है। ये भी माना जाता है कि इसके कई स्वास्थ्य लाभ भी हैं। इसके अलावा, पारंपरिक आयुर्वेदिक चिकित्सा में सरसों के तेल का बहुत उपयोग किया जाता है।  

सरसों के तेल के अलावा सरसों के बीज का भारतीय व्यंजनों में मसाले के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है। सरसों के बीज का तीखा और विशिष्ट स्वाद करी से लेकर अचार तक विभिन्न व्यंजनों का स्वाद बढ़ा देता है। इसके अलावा, सरसों  की पत्तियां, जिन्हें आम तौर पर सरसों के साग के रूप में जाना जाता है, इसका उपयोग भारत के कई हिस्सों में पत्तेदार सब्जी के रूप में किया जाता है। ये साग विटामिन ए, सी और के, के साथ-साथ कैल्शियम, आयरन और मैग्नीशियम जैसे खनिजों से भरपूर होते हैं। 

सरसों की उन्नत किस्में

जब सरसों के बीज की बात आती है, तो कई बातें गुणवत्ता का ध्यान रखने के लिए ज़रूरी हैं। सबसे महत्वपूर्ण है कि बीजों में विविधता हो। सरसों की बीज या सरसों के बीज की तरह तरह की किस्में उपलब्ध हैं। इनमें से हर एक क़िस्म की अपनी विशेषताएं होती हैं।

आइए अपने असाधारण गुणों के लिए जानी जाने वाली कुछ सर्वोत्तम सरसों की किस्मों के बारे में जानें: 

इंडियन ब्लैक सरसों: ये किस्म, जिसे राई के नाम से भी जाना जाता है, भारतीय उपमहाद्वीप में ही मिलता है। इसकी सुगंध तेज़ होती है, जो इसे अचार बनाने के लिए एक अच्छा विकल्प बनाता है। भारतीय ब्लैक सरसों का स्वाद तेज़ होता है और ये आवश्यक तेलों से भरपूर होता है, जो इसे सरसों का तेल निकालने के लिए एकदम सही बनाता है। 

ब्राउन सरसों: ब्राउन सरसों अपने तीखेपन के लिए जाना जाता है और आम तौर पर इसका उपयोग सरसों की चटनी और मसाले तैयार करने में किया जाता है। इसका स्वाद बिल्कुल अलग होता है और ये स्वास्थ्य के लिए पौष्टिक भी होता है, जो अलग-अलरग व्यंजनों में इस्तेमाल किया जाता है।  

पीली सरसों: पीली सरसों, जिसे सफेद सरसों भी कहा जाता है, अन्य किस्मों की तुलना में स्वाद में हल्की होती है। इसका उपयोग मुख्य रूप से पेस्ट और पाउडर बनाने में किया जाता है, जो कई भारतीय करी और व्यंजनों में ज़रूरी सामग्री है।

चाइनीज सरसों: ये किस्म चीन में लोकप्रिय है और अपनी अच्छी तेल सामग्री के लिए जानी जाती है। चीनी सरसों के बीज आकार में छोटे होते हैं लेकिन भरपूर और तीखा स्वाद देते हैं। इस किस्म से निकाला गया तेल अक्सर चीनी व्यंजनों में इस्तेमाल किया जाता है। 

पूसा बोल्ड: पूसा बोल्ड भारत में सरसों की सबसे लोकप्रिय किस्मों में से एक है। ये अपने मोटे और गहरे पीले रंग के बीजों के लिए जाना जाता है जिनमें तेल की मात्रा भरपूर होती है। पूसा बोल्ड सरसों के बीज का स्वाद तीखा होता है, जो उन्हें अचार बनाने और सरसों का तेल बनाने के लिए आदर्श बनाता है। ये किस्म पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश राज्यों में उगाई जाती है।

पीली सरसों: पीली सरसों, सरसों के बीज की एक पारंपरिक किस्म है जिसका उपयोग प्रसिद्ध पंजाबी व्यंजन सरसों का साग बनाने में किया जाता है। इस किस्म के बीज पीले रंग के होते हैं और उनमें हल्का, अखरोट जैसा स्वाद होता है। पीली सरसों मुख्य रूप से भारत के उत्तरी भागों, विशेषकर पंजाब में उगाई जाती है। ये आवश्यक पोषक तत्वों से भरपूर है और अपने कई स्वास्थ्य लाभों के लिए जाना जाता है। 

बी.9 (बिरसा बोल्ड): बी.9 जिसे बिरसा बोल्ड के नाम से भी जाना जाता है, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) द्वारा विकसित सरसों के बीज की एक किस्म है। इसकी विशेषता इसकी उच्च उपज, बोल्ड बीज और रोग प्रतिरोधक क्षमता है। बिरसा बोल्ड सरसों के बीज से निकाले गए तेल का स्वाद हल्का होता है, जो इसे विभिन्न व्यंजन पकाने के लिए उपयुक्त बनाता है। ये किस्म भारत के पूर्वी और मध्य क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर उगाई जाती है। 

काली सरसों: काली सरसों, जिसे राई के नाम से भी जाना जाता है, सरसों की एक अनोखी किस्म है जिसमें छोटे, काले रंग के बीज होते हैं। ये भारतीय व्यंजनों में मसाले के रूप में उपयोग किया जाता है और अपने मजबूत, तीखे स्वाद के लिए जाना जाता है। काली सरसों का उपयोग आमतौर पर व्यंजनों में तड़का लगाने, अचार बनाने और चटनी बनाने के लिए किया जाता है।

सर्वोत्तम सरसों का चयन करते समय सावधानी

सर्वोत्तम सरसों किस्म का चयन करते समय ज़रूरी है कि हम इसके इस्तेमाल की वजह और मनचाहे स्वाद के हिसाब से इस्तेमाल करें। हर एक किस्म की अपनी अलग विशेषता होती है जो तेल या मसाले के स्वाद और सुगंध को बहुत प्रभावित कर सकती हैं। इसके अलावा, जलवायु, मिट्टी की स्थिति और खेती की तकनीक जैसे कारक भी सरसों के बीज की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकते हैं। 

सर्वोत्तम परिणाम सुनिश्चित करने के लिए, सरसों के बीज के बारे में ज़रूरी जानकारियाँ इकट्ठा करना ज़रूरी है। जैसे उच्च गुणवत्ता वाली क़िस्में कौन सी हैं। सरसों उगाने वाले किसान या इसका व्यापार करने वाले व्यापारी इसमें हमारी मदद कर सकते हैं।

आपूर्तिकर्ताओं के पास अक्सर अलग-अलग तरह की सरसों की किस्मों के बारे में ढेर सारा ज्ञान होता है और वे आपकी आवश्यकताओं के लिए आदर्श किस्म का चुनाव करने पर मूल्यवान मार्गदर्शन दे सकते हैं। वे सरसों के बीजों की उत्पत्ति और उपयोग की जाने वाली खेती के तरीकों के बारे में भी जानकारी दे सकते हैं, जिससे ये तय हो सके कि आपको एक ऐसा उत्पाद मिल रहा है जो न केवल उच्चतम गुणवत्ता वाला है बल्कि नैतिक रूप से भी काम का है।

सरसों के बीज की देखभाल कैसे करें? 

  • सर्वोत्तम सरसों की किस्म चुनने के अलावा, भंडारण और खेती के दौरान बीजों की उचित देखभाल करना भी महत्वपूर्ण है। 
  • सरसों के बीजों को ठंडी और सूखी जगह पर संग्रहित किया जाना चाहिए। 
  • अच्छे विकास के लिए पर्याप्त धूप, पानी और पोषक तत्व प्रदान देने से लेकर खेती प्रथाओं का पालन करना भी महत्वपूर्ण है।
  • सरसों की अच्छी क़िस्मों के बीजों में निवेश करके और उचित खेती तकनीकों को लागू करके, आप इस बहुमुखी फसल की पूरी क्षमता का उपयोग कर सकते हैं। 
  • चाहे आप एक घरेलू रसोइया हों जो अपनी पाक कला को बेहतर बनाना चाहते हों या एक व्यावसायिक शेफ हों जो सर्वोत्तम सरसों का तेल या पेस्ट उपलब्ध कराना चाहते हों, सही सरसों की किस्म को चुनना अच्छा भोजन बनाने की दिशा में पहला कदम है। 
  • सरसों के बीज सरसों के स्वाद और स्वास्थ्य लाभों को उजागर करने की कुंजी हैं। 
  • अपनी आवश्यकताओं के मुताबिक सर्वोत्तम सरसों किस्म का चयन करके और उचित भंडारण और खेती के तरीकों को सुनिश्चित करके, आप इस असाधारण फसल की पूरी क्षमता का उपयोग कर सकते हैं। 
  • इसलिए, अगली बार जब आप सरसों के बीजों की खरीदारी कर रहे हों, तो गुणवत्ता को प्राथमिकता देना और उस किस्म का चयन करना याद रखें जो आपकी पाक संबंधी ज़रूरतों के लिए सबसे उपयुक्त हो।

सरसों की खेती में चुनौतियां

भारत में सरसों की खेती की लोकप्रियता और महत्व के बावजूद, किसानों को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ता है।

सरसों की कीमत

सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक सरसों और सरसों के तेल की बाजार कीमतों में उतार-चढ़ाव है। इनकी कीमतें अक्सर अंतरराष्ट्रीय मांग, मौसम की स्थिति और सरकारी नीतियों जैसे कारकों से प्रभावित होती हैं। कीमतों में ये अनिश्चितता किसानों के लिए अपनी खेती और विपणन रणनीतियों की योजना बनाना मुश्किल बना देती है।

सरसों की खेती में सिंचाई

इसके अलावा, पानी की कमी सरसों किसानों के लिए एक बड़ी चिंता का विषय है, खासकर सीमित सिंचाई सुविधाओं वाले क्षेत्रों में। सरसों को अपने विकास के लिए पर्याप्त पानी की आवश्यकता होती है, और पानी की कमी से विकास रुक सकता है और पैदावार कम हो सकती है।

किसान अक्सर वर्षा या पारंपरिक सिंचाई विधियों पर निर्भर रहते हैं, जो फसल की पानी की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त नहीं हो पाता है।

सर्दियों की शुरुआत भारत में खेती

सरसों की खेती में कीटरोग

एक और चुनौती कीटों और बीमारियों का खतरा है। सरसों की फसलें विभिन्न कीटों और बीमारियों, जैसे एफिड्स, सफेद रतुआ और ख़स्ता फफूंदी के लिए अतिसंवेदनशील होती हैं। इनसे फसल को काफी नुकसान हो सकता है और पैदावार कम हो सकती है।

किसानों को नियमित रूप से अपनी फसलों की निगरानी करने और इन कीटों और बीमारियों को नियंत्रित करने के लिए समय पर उपाय करने की आवश्यकता है। किसानों को रासायनिक कीटनाशकों के उपयोग को कम करने और फसल को इन खतरों से बचाने के लिए एकीकृत कीट प्रबंधन तकनीकों पर प्रशिक्षण और मार्गदर्शन दिया जाता है। 

सरसों की खेती में रसायनों का प्रयोग

इसके अलावा, सरसो की खेती में रासायनिक उर्वरकों और कीटनाशकों के बढ़ते उपयोग ने पर्यावरण संबंधी चिंताओं को बढ़ा दिया है। ये रसायन मिट्टी की उर्वरता, जल संसाधनों और जैव विविधता पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकते हैं। ऐसी टिकाऊ कृषि पद्धतियों की आवश्यकता बढ़ रही है जो रसायनों के उपयोग को कम करती हैं और जैविक खेती के तरीकों को बढ़ावा देती हैं।

 

सतत कृषि पद्धतियां

सरसों की खेती में टिकाऊ कृषि पद्धतियों को बढ़ावा देने की आवश्यकता है। रासायनिक उर्वरकों और कीटनाशकों के ज़्यादा इस्तेमाल से मिट्टी के स्वास्थ्य और पर्यावरण पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है। सरकार जैविक खेती को बढ़ावा दे रही है और टिकाऊ सरसों की खेती सुनिश्चित करने के लिए जैविक प्रथाओं को अपनाने के लिए सब्सिडी भी दे रही है।

सरसों की खेती में सरकारी सहायता

भारत में उगाई जाने वाली विभिन्न फसलों में से सरसों एक विशेष स्थान रखती है। इसकी वजह है इसका अलग-अलग चीजों में इस्तेमाल होना जैसे ख़ाना बनाने में मसालों या तेल की तरह और औषधीय अनुप्रयोगों में इसके व्यापक उपयोग के कारण। सरसों की खेती की वृद्धि और सफलता सुनिश्चित करने के लिए, भारत सरकार ने इस क्षेत्र में लगे किसानों के लिए कई योजनाएँ लागू की हैं। 

कृषि योजनाएं और सब्सिडी 

भारत सरकार सरसों की खेती को बढ़ावा देने में सक्रिय भूमिका निभाती है। सरसों की खेती को प्रोत्साहित करने, गुणवत्तापूर्ण बीजों का उपयोग करने और उत्पादकता बढ़ाने के लिए किसानों को विभिन्न कृषि योजनाएँ और सब्सिडी दी जाती हैं।

सरकार ने सरसों की फसल की पैदावार बढ़ाने के लिए सिंचाई सुविधाओं में सुधार और अनुसंधान एवं विकास में भी निवेश किया है। साथ ही, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) जैसे अनुसंधान और विकास संस्थान, उच्च उपज वाली सरसों किस्मों, कीट प्रबंधन रणनीतियों और नवीन कृषि तकनीकों के विकास पर लगातार काम करते हैं। 

किसान उत्पादक संगठन

भारत सरकार किसानों के लिए बाज़ार संपर्क के महत्व को पहचानती है और सरसों किसानों को उनकी उपज के विपणन में सहायता करने के लिए कई पहल की गई हैं। सरकार किसान उत्पादक संगठनों (एफपीओ) और सहकारी समितियों की स्थापना को बढ़ावा देती है, जो किसानों को सही कीमतों पर अपनी सरसों की फसल बेचने में मदद करती है।

इसके अलावा, सरकार ने सीधे किसान-खरीदार संपर्क की सुविधा, बिचौलियों की आवश्यकता को खत्म करने और किसानों के लिए उचित लाभ सुनिश्चित करने के लिए ई-मार्केट प्लेटफॉर्म बनाएँ हैं और मोबाइल एप्लिकेशन भी लॉन्च किए हैं।

जैविक कृषि पद्धतियों को बढ़ावा देना 

इसके अलावा, सरकार सरसों की खेती में जैविक कृषि पद्धतियों को बढ़ावा देने के लिए उत्सुक रही है। जैविक खेती रासायनिक विकल्पों पर निर्भरता कम करती है, पर्यावरण की सुरक्षा करती है और स्वस्थ और रसायन मुक्त फसलों के उत्पादन को बढ़ावा देती है।

किसानों को सरसों की खेती में जैविक पद्धतियों को अपनाने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए सरकार भी कोशिशें कर रही है। इससे न केवल किसानों और पर्यावरण को लाभ होता है बल्कि घरेलू और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जैविक सरसों उत्पादों की बढ़ती मांग भी पूरी होती है। 

भारतीय अर्थव्यवस्था में सरसों की भूमिका

सरसों के बीज देश की अर्थव्यवस्था में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, नकदी फसल के रूप में और भारतीय पाक संस्कृति में एक आवश्यक घटक के रूप में। सरसों के बीजों की खेती और व्यापार कृषि क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान देता है, जिससे ये भारतीय अर्थव्यवस्था का अभिन्न अंग बन जाता है। 

ये इसकी खेती, कटाई और प्रसंस्करण में शामिल लाखों किसानों और मजदूरों को रोजगार के अवसर प्रदान करता है। सरसों की बढ़ती खेती ने न केवल खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित की है बल्कि किसानों की आजीविका में सुधार करके ग्रामीण विकास में भी योगदान दिया है। 

सरसों के बीज और सरसों के तेल का निर्यात भी देश की विदेशी मुद्रा आय में इजाफा करता है। सरसो के बीज संयुक्त राज्य अमेरिका, कनाडा, जापान और यूरोपीय देशों सहित विभिन्न देशों में निर्यात किए जाते हैं। निर्यात बाजार किसानों के लिए अतिरिक्त आय स्रोत प्रदान करता है और भारतीय अर्थव्यवस्था के समग्र विकास में योगदान देता है। 

भारत के कृषि क्षेत्र में सरसों की खेती का बहुत महत्व है। ये न केवल खाद्य सुरक्षा, रोजगार के मौक़े और विदेशी मुद्रा आय में योगदान देकर देश की अर्थव्यवस्था में योगदान देता है बल्कि अपने लोगों को पौष्टिक तेल, मसाला और सब्जी भी देता है। सरकार के समर्थन और हस्तक्षेप से सरसों की खेती को बढ़ावा देने और किसानों के सामने आने वाली चुनौतियों का समाधान करने में मदद मिली है। 

चुनौतियों के बावजूद, सरसों किसान बेहतर पैदावार और टिकाऊ कृषि पद्धतियों के लिए कोशिश करना जारी रखते हैं। सही समर्थन और संसाधनों के साथ, भारत में सरसों की खेती फल-फूल सकती है और कृषि क्षेत्र के समग्र विकास में योगदान कर सकती है। सतत प्रथाओं और बाजार विकास की दिशा में निरंतर कोशिशों के साथ, भारत में सरसों, कृषि क्षेत्र में आने वाले समय में होने वाले समृद्ध विकास के लिए तैयार है।

ये भी पढ़ें- Canola Oil: कनोला सरसों की किस्म की खेती में क्या है ख़ास? जानिए इसकी पोषक गुणवत्ता

सम्पर्क सूत्र: किसान साथी यदि खेती-किसानी से जुड़ी जानकारी या अनुभव हमारे साथ साझा करना चाहें तो हमें फ़ोन नम्बर 9599273766 पर कॉल करके या [email protected] पर ईमेल लिखकर या फिर अपनी बात को रिकॉर्ड करके हमें भेज सकते हैं। किसान ऑफ़ इंडिया के ज़रिये हम आपकी बात लोगों तक पहुँचाएँगे, क्योंकि हम मानते हैं कि किसान उन्नत तो देश ख़ुशहाल।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top