किसानों का Digital अड्डा

कैसे वी.एल. लाइन मेकर पहाड़ी इलाकों के किसानों के लिए फ़ायदेमंद? एक लाइन में बुवाई

कम लागत के साथ निराई-गुड़ाई में आसानी

खाद, कीटनाशकों और बीजों की बढ़ती कीमतों की वजह से खेती की लागत दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। ऐसे में बुवाई के लिए किसी ख़ास विधि का इस्तेमाल करना बहुत ज़रूरी हो जाता है, जिसमें बीजों की बर्बादी कम से कम हो, साथ ही अंकुरण ज्य़ादा से ज़्यादा हो। बीजों की बुवाई में वी.एल. लाइन मेकर यंत्र किसानों के लिए फ़ायदेमंद साबित हो सकता है।

Seed Sowing Machine VL Line Maker: बीजों की बुवाई के लिए अलग-अलग तरीके हैं, जिसमें से छिड़काव विधि सबसे आसान होती है, लेकिन इसकी अंकुरण दर मात्र 50 फ़ीसदी ही है, यानी इस विधि में बीजों की बर्बादी काफ़ी ज़्यादा होती है, जिससे खेती में लागत बढ़ जाती है। कुछ बीज ऊपर रह जाते हैं और कुछ ज़्यादा गहराई में चले जाते हैं, जिससे अंकुरण एक समान नहीं हो पाता। ऐसे में वी.एल. लाइन मेकर यंत्र किसानों के लिए बहुत कारगर हो सकता है।

पर्वतीय इलाकों में अधिकतर छिड़काव विधि का इस्तेमाल होता है जिससे किसानों की खेती की लागत अधिक होती है और मुनाफ़ा कम होता है। ऐसे में वी.एल. लाइन मेकर यंत्र किसानों के लिए मददगार साबित हो सकता है, क्योंकि इस छोटे से यंत्र की मदद से वो खेत में आसानी से पंक्तियां बनाकर बुवाई कर सकते हैं। पंक्तिबद्ध बुवाई में बीजों की अंकुरण दर अच्छी होती है, निराई-गुड़ाई भी आसान हो जाती है और इससे पहाड़ी इलाकों के किसानों की खेती की लागत में भी कमी आती जाती है। इस यंत्र को अल्मोड़ा के आईसीएआर-विवेकानंद पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान ने विकसित किया है।

क्यों ज़रूरी है पंक्तिबद्ध बुवाई?

कृषि वैज्ञानिक और जानकारों का कहना है कि ज्यादा उत्पादन के लिए किसानों को लाइन यानी पंक्ति में बुवाई करनी चाहिए। पंक्ति में बुवाई का एक फायदा तो ये होता है कि बीज कम लगते हैं, दूसरा ये कि निराई-गुड़ाई आसान हो जाती है और उत्पादन भी ज्यादा होता है।

वी. एल. लाइन मेकर का विकास किसने किया?

मज़दूरों की कमी को दूर करने के लिए कई तरह के कृषि यंत्रों का विकास कृषि वैज्ञानिकों द्वारा किया गया है। ऐसा ही एक छोटा मगर बहुत कारगर यंत्र है वी. एल. लाइन मेकर, इसको बनाया है भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद, विवेकानंद पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, अल्मोड़ा ने। हल्का होने के कारण इसे पहाड़ी इलाकों में आसानी लाया जा सकता है और इस्तेमाल किया जा सकता है। इसका वज़न महज़ 2.2 किलोग्राम है, जिसे एक व्यक्ति आसानी से खींच सकता है।

Kisan Of India Instagram

आसानी से बनाता है पंक्तियां?

वी.एल लाइन मेकर के इस्तेमाल से एक व्यक्ति आसानी से एक घंटे में 3-4 नाली की पंक्ति बना सकता है। वी.एल. लाइन मेकर से बुवाई करने पर बीजों का अंकुरण अच्छी तरह होता है, क्योंकि बुवाई के दौरान बीज एक निश्चित गहराई में रहता है जिसे बाद में बंद कर दिया जाता है। वी.एल. लाइन मेकर में आप पंक्ति के बीज की दूरी को फसल के हिसाब से एडजस्ट कर सकते हैं, इसके लिए इसके फालों को स्थिर करना होता है। अगर आपको गेहूं, धान और मिलेट्स जैसी फसल लगानी हो तो दूरी को 20 सेंटीमीटर तक फिक्स करें। मटर और मसूर जैसी फसल की बुवाई के लिए पंक्ति के बीच 30 सेंटीमीटर की दूरी फिक्स करें। सोयाबीन और मक्का की बुवाई के लिए फालों को 45 या 60 सेंटीमीटर की दूरी पर फिक्स करें।

वी.एल लाइन मेकर इस्तेमाल में आसान

वी.एल लाइन मेकर पूरी तरह से लोहे से तैयार किया जाता है और जहां से इसे पकड़ा जाता है उस जगह पर रबड़ के हत्थे लगे हुए हैं, जिससे पकड़ने पर ग्रिप अच्छी मिलती है। रबड़ के हत्थों की वजह से इसे आसानी से खींचा जा सकता है, इससे हाथों में फिसलन नहीं होती है और हथेलियों पर दबाव भी नहीं पड़ता है। इस यंत्र की मदद से एक साथ पांच और कम से कम एक पंक्ति निकाली जा सकती है। हल्का होने के कारण महिला किसान भी इसे आसानी से खींच सकती हैं।

Kisan of India Twitter

बीज बुवाई मशीन का प्रदर्शन

इस यंत्र का पहली बार प्रदर्शन 2019 में उत्तराखंड के अल्मोड़ा ज़िले के दो गांव में हुआ था। सफल प्रदर्शन के बाद कई किसानों ने इसका इस्तेमाल करके बुवाई की और बेहतर नतीजे मिलने के बाद आसपास के बाकी किसानों को भी अपनाने के लिए प्रेरित किया। किसानों ने अरहर, सोयाबीन, गहत, मसूर जैसी फसलों की बुवाई के लिए इस यंत्र का इस्तेमाल किया और अधिक पैदावार का फायदा मिला।

पहाड़ी इलाकों में इस यंत्र के इस्तेमाल के फायदों के बारे में किसानों को जागरूक किया गया। कैसे इसके इस्तेमाल से वक्त और मेहनत दोनों की बचत होती है इसके बारें में किसानों को संदेशों के ज़रिये समझाया गया, ताकि ज़्यादा से ज़्यादा किसान इस यंत्र का लाभ उठा सकें।

पंक्ति बनाने के पारंपरिक तरीके में झुक कर काम करना पड़ता है, जिससे कमर और मांसपेशियों से संबंधित परेशानियां और बीमारियां होने की संभावनी बनी रहती है, जबकि इस यंत्र के इस्तेमाल के लिए झुकना नहीं पड़ता है जिससे मांसपेशियों से जुड़ी समस्याएं नहीं होती और न ही थकान होती है।

निराई-गुड़ाई में सुविधा

पंक्ति में बुवाई करने से निराई-गुड़ाई आसानी से की जा सकती है, साथ ही फसलों में शाखाएं भी ज़्यादा बनती है। इस यंत्र के इस्तेमाल से किसानों के बीज की भी बचत होती है।

ये भी पढ़ें- सोलर असिस्टेड ई-प्राइम मूवर मशीन (E-Prime Mover Machine): एक मशीन कई काम, जानिए कैसे किसानों के लिए है फ़ायदेमंद

सम्पर्क सूत्र: किसान साथी यदि खेती-किसानी से जुड़ी जानकारी या अनुभव हमारे साथ साझा करना चाहें तो हमें फ़ोन नम्बर 9599273766 पर कॉल करके या [email protected] पर ईमेल लिखकर या फिर अपनी बात को रिकॉर्ड करके हमें भेज सकते हैं। किसान ऑफ़ इंडिया के ज़रिये हम आपकी बात लोगों तक पहुँचाएँगे, क्योंकि हम मानते हैं कि किसान उन्नत तो देश ख़ुशहाल।
You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.