किसानों का Digital अड्डा

कौन से हैं वो पक्षी जो कृषि क्षेत्र में किसानों के साथी हैं? किन बातों का रखें ध्यान?

कृषि क्षेत्र में पक्षियों की भूमिका है अहम बशर्ते सावधानी बरतें

ये कहना गलत नहीं होगा कि भारत पक्षियों की कई प्रजातियों का घर है। इनमें से कई पक्षी ऐसे हैं जो किसानों के दोस्त होते हैं। कीट नियंत्रण से लेकर परागण तक, पक्षी किसानों के लिए प्राकृतिक सहयोगी बन गए हैं। इसका सबसे बड़ा फ़ायदा ये है कि इससे टिकाऊ और उत्पादक कृषि पद्धतियां बनाने में मदद मिल रही है।

पक्षी दिखने और सुनने में जितने सुंदर होते हैं उससे कहीं ज़्यादा मददगार होते हैं। ख़ास तौर पर कृषि के क्षेत्र में पक्षियों का योगदान सराहनीय है। किसानों को पक्षियों से कई फ़ायदे होते हैं। एक स्वस्थ पारिस्थितिकी तंत्र को बनाए रखने में भी पक्षी मदद करते हैं। पक्षी कीट नियंत्रण, परागण, बीज फैलाव और पोषक चक्र से जुड़ी सेवाएं देते हैं। उनका योगदान कृषि पद्धतियों की उत्पादकता और स्थिरता के लिए ज़रूरी है।

यहां हम संरक्षण से जुड़ी कोशिशों और पक्षी-अनुकूल कृषि पद्धतियों को अपनाने की ज़रूरत के बारे में जानेंगे। पक्षियों और उनके आवासों की रक्षा करके, भारत इन पंख वाले सहयोगियों से अपने कृषि क्षेत्र को दी जाने वाली अमूल्य सेवाओं से लाभ उठाना जारी रख सकता है। 

कृषि में पक्षियों की भूमिका 

1. कीट नियंत्रण: गौरैया, निगल और कौवे जैसे पक्षी उन कीड़ों और कीटों को खाते हैं जो फसल को नुकसान पहुंचा सकते हैं, जिससे रासायनिक कीटनाशकों की आवश्यकता कम हो जाती है।

2. बीज फैलाव: कुछ पक्षी फल और जामुन खाते हैं और अपनी बूंदों के माध्यम से बीज फैलाते हैं, जिससे पौधों के प्राकृतिक प्रसार और पुनर्जनन में सहायता मिलती है।

3. परागण: हमिंगबर्ड और सनबर्ड जैसे पक्षी फूलों को परागित करने, पौधों के प्रजनन और फलों, सब्जियों और बीजों के उत्पादन को सुनिश्चित करने में यहां भूमिका निभाते हैं। 

4. खरपतवार नियंत्रण: गीज़ और बत्तख जैसे पक्षी, जब चावल की खेती में उपयोग किए जाते हैं, तो खरपतवारों को खाकर उन्हें चावल के खेतों में फैलने से रोकते हैं।

5. मृदा वातन (Soil Aeration): मोर और टर्की जैसे पक्षी कीड़े की तलाश में मिट्टी खोदते हैं, जिससे मिट्टी की पोषक क्षमता बेहतर होने में मदद मिलती है।

6. उपजाऊ बनाना: कबूतर और फाख्ता जैसे पक्षी की बीट कृषि भूमि के लिए प्राकृतिक उर्वरक के तौर पर काम करती है, जिससे मिट्टी ज़रूरी पोषक तत्वों से समृद्ध होती है।

7. सांस्कृतिक महत्व: भारत के कुछ क्षेत्रों में पक्षियों को शुभ माना जाता है और समुदायों द्वारा उनकी रक्षा की जाती है। इनकी मौजूदगी और संरक्षण का सांस्कृतिक और धार्मिक महत्व भी है। इससे पर्यावरण का संरक्षण हो रहा है। 

8. जैव विविधता संरक्षण: पक्षी भारत की समृद्ध जैव विविधता का एक अभिन्न अंग है। कृषि क्षेत्र में इनकी मौजूदगी एक संतुलित पारिस्थितिकी तंत्र को बनाए रखने में मदद करती है और पर्यावरण के स्वास्थ्य को भी बचाता है। 

9. इकोटूरिज़्म की संभावना: कृषि क्षेत्र के आसपास बर्डवॉचिंग और पक्षी पर्यटन विकसित किया जा सकता है। इससे पर्यटकों को आकर्षित किया जा सकता है। ये किसानों की अतिरिक्त आय का ज़रिया हो सकती है।

10. शिक्षा और जागरूकता: पक्षी शैक्षिक उपकरण के रूप में काम कर सकते हैं, जिससे किसानों और समुदायों को आवासों के संरक्षण और टिकाऊ कृषि प्रथाओं को बढ़ावा देने के महत्व को समझने में मदद मिलती है।

पक्षी 1

भारत में कौन से पक्षी कृषि में सहायक होते हैं?

भारत में विभिन्न प्रकार की पक्षी प्रजातियां कृषि में योगदान देती हैं, जिससे किसानों और पर्यावरण को बहुत फ़ायदा होता है। कौन से पक्षी किसानों को उनकी फसलों की रक्षा करने में मदद करते हैं? यहां कुछ नाम और उनके काम के बारे में बताया गया है:

1. गौरैया: गौरैया को विभिन्न कृषि कीटों जैसे एफिड्स, कैटरपिलर, टिड्डे और बीटल को खाने के लिए जाना जाता है। वे चावल के खेतों में कीटों की आबादी को नियंत्रित करने में विशेष रूप से मददगार होती हैं।

2. उल्लू: ये चूहों के प्राकृतिक शिकारी हैं, जो कृषि क्षेत्रों में आम हैं। इनको खाकर उल्लू फसल की क्षति और नुकसान को कम करने में मदद करते हैं। 

3. पतंगें: पतंगें छोटे स्तनधारियों, कीड़ों और सरीसृपों को खाने के लिए जानी जाती हैं। वो कृंतक आबादी को नियंत्रित करने में मदद करते हैं, जो फसल को नुकसान पहुंचा सकते हैं। 

4. बाज़: बाज़ का इस्तेमाल भारत के कुछ क्षेत्रों में बाज़ पालन के लिए किया जाता है, जो कीट नियंत्रण की एक पारंपरिक विधि है। उन्हें कबूतर, कौवे और तोते जैसे पक्षियों का शिकार करने और डराने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है।

5. बगुला: ये जलपक्षी मछली वाले तालाब के आस-पास के कृषि क्षेत्रों के लिए फ़ायदेमंद होते हैं। वे मछली, मेंढक और कीड़े खाते हैं, जिससे उनकी आबादी को नियंत्रित करने और पारिस्थितिक संतुलन बनाए रखने में मदद मिलती है। 

6. कोयल: कोयल को कैटरपिलर के आहार के लिए जाना जाता है, जो आम कृषि कीट है। ये इन कीटों की आबादी को नियंत्रित करने और रासायनिक कीटनाशकों की ज़रूरत को कम करने में मदद करते हैं। 

7. किंगफिशर: किंगफिशर मुख्य रूप से छोटी मछलियों, कीड़ों और जल में रहने वाले जीवों का भोजन करते हैं। जल निकायों वाले कृषि क्षेत्रों में, वे मच्छरों और छोटी मछलियों जैसे कीटों को नियंत्रित करने में मदद करते हैं जो फसल को नुकसान पहुंचा सकते हैं। 

8. ड्रोंगो: भारतीय उपमहाद्वीप में ड्रोंगो नस्ल गर्मियों के दौरान हिमालय और मध्य भारत के कुछ हिस्सों में पाई जाती हैं। ड्रोंगो कीड़ों को पकड़ने के अपने कौशल के लिए जाने जाती हैं। ये हवा में उड़ने वाले कीड़ों को पकड़ते हैं, जिनमें मच्छर, मक्खियां, टिड्डे और झींगुर शामिल हैं, जो फसलों के लिए हानिकारक हो सकते हैं।

9. निगल: निगल हवाई कीटभक्षी होते हैं और मच्छरों, मक्खियों और एफिड्स जैसे उड़ने वाले कीड़ों को खाते हैं। ये कृषि क्षेत्रों में कीटों की आबादी को कम करने में मदद करते हैं। 

10. श्रीकेस: श्रीकेस अपने शिकार को कांटों या कीलों पर ठोंकने की आदत के लिए जाने जाते हैं। ये कीड़े, छोटे कृंतकों और यहां तक कि छोटे पक्षियों को भी खाते हैं, जिससे कृषि क्षेत्रों में कीटों के नियंत्रण में मदद मिलती है। 

पक्षी 2

कृषि में पक्षी अनुकूल प्रथाएं

इस लेख को यहां तक पढ़ने के बाद हमें पूरा विश्वास हो गया है कि पक्षी कृषि के लिए महत्वपूर्ण हैं, लेकिन कहानी का एक दूसरा पहलू भी है। भोजन की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए पिछले कुछ सालों में कृषि का विस्तार हुआ है। इसकी वजह से कृषि भूमि के लिए रास्ता बनाने के लिए जंगलों और घास के मैदानों जैसे प्राकृतिक आवासों को साफ़ कर दिया गया है।

आवास के इस नुकसान का उन पक्षियों पर विनाशकारी प्रभाव पड़ता है, जो घोंसले बनाने, भोजन करने और प्रवास के लिए इन क्षेत्रों पर निर्भर रहते हैं। निवास स्थान के नुकसान की वजह से कई पक्षी प्रजातियों की आबादी में गिरावट देखी गई है या वो लुप्त होने की कगार पर आ गए हैं।

पक्षियों के आवास की रक्षा करना और कृषि में पक्षी-अनुकूल प्रथाओं को बढ़ावा देना भारतीय कृषि में पक्षियों के फ़ायदे सुनिश्चित करने की दिशा में महत्वपूर्ण कदम हैं। एक साथ काम करके, किसान, नीति निर्माता और आम जनता पक्षियों और कृषि के बीच एक सामंजस्यपूर्ण संबंध बना सकते हैं, जिससे एक टिकाऊ और संपन्न कृषि पारिस्थितिकी तंत्र बन सकता है।

कैसे कृषि क्षेत्र में पक्षियों की भूमिका को बढ़ावा दें? 

1. फसल के बीच पेड़पौधे लगाना: पेड़ों और झाड़ियों को कृषि परिदृश्य में शामिल करके, ये पक्षियों के लिए आवास, भोजन स्रोत, रहने की जगह बन सकता है। उनकी आबादी को बनाए रखने में मदद करता है। इसमें हेजरोज़, विंडब्रेक्स और रिपेरियन बफ़र्स लगाना शामिल है। 

2. कीटनाशकों का उपयोग कम करना: पक्षी कीटनाशकों के प्रभाव के प्रति अत्यधिक संवेदनशील होते हैं। इसलिए उनके उपयोग को कम करने या एकीकृत कीट प्रबंधन जैसे विकल्पों को अपनाने से पक्षियों की आबादी की रक्षा करने में मदद मिल सकती है। 

3. प्राकृतिक आवास का संरक्षण: कृषि क्षेत्र के अंदर या आस-पास प्राकृतिक आवास को बनाए रखना और संरक्षित करना पक्षियों के लिए घोंसले और चारा देने की जगह बन सकता है। 

4. आर्द्रभूमि की रक्षा करना: कई पक्षी प्रजातियाँ प्रजनन, प्रवास और सर्दियों के लिए आर्द्रभूमि पर निर्भर हैं। कृषि परिदृश्य में आर्द्रभूमि क्षेत्रों की सुरक्षा और पुनर्स्थापन से पक्षियों की आबादी को लाभ हो सकता है।

5. घोंसले के लिए संरचनाएं बनाना: घोंसला बनाने या प्लेटफॉर्म बनाने से गुहा-घोंसला बनाने वाले पक्षियों के लिए अतिरिक्त घोंसले के अवसर दिए जा सकते हैं। खासकर उन क्षेत्रों में जहां उपयुक्त प्राकृतिक घोंसले के शिकार स्थल सीमित हैं। 

6. जल संसाधनों का प्रबंधन: जल संसाधनों का संरक्षण और उचित प्रबंधन, जैसे उथले पानी में आवास बनाना या तालाबों का रखरखाव, पानी पर निर्भर पक्षी प्रजातियों को आकर्षित कर सकता है।

7. फसल चक्र में विविधता लाना: विविध फसल चक्र अपनाने से पूरे साल पक्षियों के लिए भोजन स्रोत उपलब्ध हो सकते हैं, जिससे अलग-अलग मौसम के दौरान कुछ फसल पर उनकी निर्भरता कम हो सकती है। 

8. घास काटने या कटाई में देरी करना: पक्षियों के घोंसले, विशेष रूप से ज़मीन पर घोंसले बनाने वाली प्रजातियों को परेशान करने से बचने के लिए घोंसले का मौसम खत्म होने तक घास काटने या कटाई में देरी करने की सलाह दी जाती है।

9. पक्षी स्नान और फीडर प्रदान करना: पानी और भोजन के स्रोत, जैसे पक्षी के लिए पानी और फ़ीडर, कृषि क्षेत्रों में विभिन्न प्रकार की पक्षी प्रजातियों को आकर्षित और समर्थन कर सकते हैं।

10. संरक्षण कार्यक्रम में भाग लेना: पक्षी-अनुकूल कृषि कार्यक्रमों और साझेदारियों में शामिल होने से पक्षी-अनुकूल प्रथाओं को लागू करने के लिए समर्थन, मार्गदर्शन और प्रोत्साहन मिल सकता है।

क्या पक्षी कृषि के शत्रु हो सकते हैं? 

एक सिक्के के हमेशा दो पहलू होते हैं। जब हम पक्षियों और खेती की बात करते हैं तो सब कुछ अनुकूल नहीं होता। इसमें कोई संदेह नहीं है पक्षी, किसानों के लिए वरदान हैं। लेकिन पक्षियों को अक्सर कृषि के दुश्मन के रूप में भी देखा जा सकता है। वो फसल को काफ़ी नुकसान पहुंचा सकते हैं।

इसकी वजह से दुनिया भर में किसानों को काफ़ी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। कृषि पर पक्षियों के प्रभाव को समझना और प्रभावी समाधान तलाशना पक्षियों और कृषि उद्योग दोनों के लिए एक स्थायी भविष्य सुनिश्चित करने के लिए महत्वपूर्ण है।

पक्षियों से कृषि और पशु क्षेत्र को होने वाले नुकसान

1. फसल का नुकसान: बीज, फल और पत्तियों को खाकर पक्षी फसल को नुकसान पहुंचा सकते हैं। वो पूरी फसल को चट कर सकते हैं या खा सकते हैं, जिससे किसानों की उपज को नुकसान हो सकता है।

2. संदूषण: पक्षी कटी हुई फसल को अपने मल, पंखों या अपने साथ आने वाली बीमारियों से दूषित कर सकते हैं। इससे फसल इंसानों के इस्तेमाल के लिए नहीं बच पाती है और किसानों को आर्थिक नुकसान हो सकता है।

3. रोग संचारित करना: पक्षियों में तरह-तरह के रोग हो सकते हैं, जैसे एवियन इन्फ्लूएंजा और साल्मोनेला, जो पशुओं या मनुष्यों में संचारित हो सकते हैं। इसका कृषि उत्पादकता और सार्वजनिक स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव पड़ सकता है। 

4. बुनियादी ढांचे को नुकसान: कृषि बुनियादी ढांचे जैसे सिंचाई प्रणाली, ग्रीनहाउस पर प्लास्टिक कवर, या फसल की रक्षा करने वाले जाल को पक्षी नुकसान पहुंचा सकते हैं। इससे मरम्मत और प्रतिस्थापन के लिए अतिरिक्त खर्च हो सकता है।

5. रोपण और कटाई में व्यवधान: पक्षियों के बड़े झुंड श्रमिकों को डराकर या मशीनरी के रास्ते में आकर रोपण या कटाई गतिविधियों को बाधित कर सकते हैं। इससे किसानों के लिए देरी और अतिरिक्त श्रम लागत हो सकती है। 

6. पशुधन की अशांति: पक्षी, पशुधन के लिए तनाव और उत्तेजना पैदा कर सकते हैं, जिससे उनकी वृद्धि और प्रजनन प्रभावित हो सकती है। इससे उत्पादकता कम हो सकती है और पशुपालकों को आर्थिक नुकसान हो सकता है।

7. खरपतवार के बीज फैलाना: कुछ पक्षी प्रजातियां अनजाने में अपनी बीट के माध्यम से खरपतवार के बीज फैलाते हैं, जो कृषि क्षेत्रों में खरपतवार के संक्रमण का कारण बन सकती हैं।

8. भंडारण सुविधाओं को नुकसान: पक्षी भंडारण संरचनाओं, जैसे खलिहान को नुकसान पहुंचा सकते हैं, संरचनाओं पर चोंच मारकर या अपनी बूंदों से काट कर भंडार में रखी गई फसल को दूषित कर सकते हैं। इसकी वजह से फसल ख़राब या क्षतिग्रस्त हो सकती है। 

9. आर्थिक प्रभाव: कृषि पर पक्षियों द्वारा किया गया नुक़सान आर्थिक प्रभाव डाल सकता है, जिससे किसानों की आय कम हो सकती है और उपभोक्ताओं के लिए खाद्य कीमतें संभावित रूप से बढ़ सकती हैं। 

10. जैव विविधता पर नकारात्मक प्रभाव: कुछ मामलों में, जो पक्षी कृषि को नुकसान पहुंचाते हैं, वो संसाधनों के लिए प्रतिस्पर्धा करके या अंडे या चूजों का शिकार करके अन्य पक्षी प्रजातियों या वन्यजीवों पर भी नकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं। इससे कृषि क्षेत्र में पारिस्थितिक संतुलन बाधित हो सकता है। 

फसलों को पक्षियों से बचाने के प्रभावी उपाय 

1. डराने की रणनीति: पक्षियों को फसल से दूर रखने के लिए डराने की रणनीति का इस्तेमाल एक आम तरीका रहा है। इसमें शोर मचाने वाली तोपों, बिजूका, परावर्तक टेप और डिकॉय का उपयोग किया जा सकता है। हालांकि, ये युक्तियां छोटे समय के लिए ही हो सकती हैं। पक्षी जल्दी ही इसे समझ लेते हैं, जिससे वो समय के साथ कम शक्तिशाली हो जाते हैं। 

2. जाल और संरचनाएं: जाल या सुरक्षात्मक संरचनाएं लगाने से पक्षियों को फसलों तक पहुंचने से रोका जा सकता है। ये विधि काफ़ी प्रभावी साबित हुई है, लेकिन ये महंगी और बड़े क्षेत्रों के लिए अव्यावहारिक हो सकती है। 

3. ध्वनि निवारक: संकटपूर्ण कॉल या शिकारी ध्वनि उत्सर्जित करने वाले ध्वनि निवारक का उपयोग प्रभावी ढंग से पक्षियों को डरा सकता है। इन उपकरणों को अलग-अलग पक्षी प्रजातियों की आवाज़ उत्पन्न करने के लिए प्रोग्राम किया जा सकता है और पक्षियों के लिए अनुकूलन करना कम आसान हो जाता है। 

4. आवास प्रबंधन: कृषि क्षेत्र से दूर पक्षियों के लिए उपयुक्त आवास बनाने से उनका ध्यान भटकाने और फसल क्षति को कम करने में मदद मिल सकती है। वैकल्पिक भोजन स्रोत और घोंसले के क्षेत्र देकर किसान अपनी फसल पर पक्षियों की निर्भरता को कम कर सकते हैं। 

5. एकीकृत कीट प्रबंधन (आईपीएम): आईपीएम रणनीतियों को लागू करने से कीटों और पक्षियों दोनों को एक साथ नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है। पक्षियों द्वारा खाए जाने वाले कीड़ों की उपलब्धता को कम करके, किसान अपने खेतों में पक्षियों के आकर्षण को कम कर सकते हैं। इसमें रासायनिक कीटनाशकों पर बहुत अधिक निर्भर हुए बिना कीटों के प्रबंधन के लिए फसल चक्र, कीट-प्रतिरोधी किस्मों का उपयोग और जैविक नियंत्रण विधियों जैसी प्रथाएं शामिल हो सकती हैं। 

6. सहयोग और शिक्षा: पक्षी वैज्ञानिकों, संरक्षणवादियों और कृषि विशेषज्ञों के साथ मिलकर काम करने से पक्षियों के व्यवहार और कृषि पर उनके प्रभाव की बेहतर समझ को बढ़ावा मिल सकता है। इस सहयोग से नवीन और टिकाऊ समाधानों का विकास हो सकता है जिससे पक्षी की आबादी और किसानों, दोनों को लाभ होगा।

7. नीति समर्थन: कृषि को पक्षियों से होने वाले नुकसान से जुड़े समाधान में सरकारें महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती हैं। ऐसी नीतियों को लागू करना जो किसानों को पक्षी निवारक उपायों में निवेश करने के लिए वित्तीय सहायता देती हैं, पक्षियों के व्यवहार और फसल सुरक्षा पर शोध करना और टिकाऊ कृषि प्रथाओं को बढ़ावा देना कृषि पर पक्षियों के नकारात्मक प्रभाव को कम करने में मदद कर सकता है। 

संतुलन बनाए रखना ज़रूरी है 

इस मुद्दे पर संतुलित दृष्टिकोण से विचार करना ज़रूरी है। हमें इस सकारात्मक पक्ष को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए कि पक्षी अलग-अलग रूप में किसान और कृषि की बेहतरी के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। पक्षियों और उनके आवास की रक्षा करके, किसान इन पंख वाले सहयोगियों द्वारा अपने कृषि क्षेत्र को दी जाने वाली अमूल्य सेवाओं से लाभ उठाना जारी रख सकता है।

लेकिन यही पक्षी जाने-अनजाने में किसान और कृषि का नुक़सान भी करते हैं। कीटनाशकों के उपयोग को कम करने, प्राकृतिक आवास को संरक्षित करने, आर्द्रभूमि की रक्षा करने, घोंसला संरचना बनाने, जल संसाधनों का प्रबंधन करने, फसल चक्र में विविधता लाने, घास काटने या कटाई में देरी करने और पक्षी स्नान और फीडर प्रदान करने जैसी प्रथाओं को लागू करने से पक्षियों के बीच सामंजस्यपूर्ण संबंध बनाने में मदद मिल सकती है। 

इन कोशिशों की वजह से किसान अपनी समृद्ध जैव विविधता को संरक्षित करते हुए एक टिकाऊ और संपन्न कृषि पारिस्थितिकी तंत्र सुनिश्चित कर सकता है। ऐसे समाधान ढूंढना ज़रूरी है जो फसल क्षति को कम करने के साथ-साथ पक्षियों की आबादी को भी संरक्षित करे। कृषि पर पक्षियों के प्रभाव को समझकर और प्रभावी रणनीतियों को लागू करके, हम पक्षियों और कृषि उद्योग के बीच सामंजस्यपूर्ण सुनिश्चित कर सकते हैं, जिससे दोनों के लिए एक स्थायी भविष्य सुरक्षित हो सके। 

ये भी पढ़ें: पशुपालन (Animal Husbandry): पशुओं और इंसान के लिए बेहद ख़तरनाक है ब्रूसीलोसिस (Brucellosis) का संक्रमण, कैसे करें बचाव?

सम्पर्क सूत्र: किसान साथी यदि खेती-किसानी से जुड़ी जानकारी या अनुभव हमारे साथ साझा करना चाहें तो हमें फ़ोन नम्बर 9599273766 पर कॉल करके या [email protected] पर ईमेल लिखकर या फिर अपनी बात को रिकॉर्ड करके हमें भेज सकते हैं। किसान ऑफ़ इंडिया के ज़रिये हम आपकी बात लोगों तक पहुँचाएँगे, क्योंकि हम मानते हैं कि किसान उन्नत तो देश ख़ुशहाल।
You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.