किसानों का Digital अड्डा

Apiculture: कैसे कृषि और मधुमक्खी पालन के बीच है दिलचल्प संबंध? किसानों-युवाओं को भा रही Beekeeping

मधुमक्खियां पराग को एक फूल से दूसरे फूल तक ले जाकर पौधों को बढ़ने में करती हैं मदद

शहद और मधुमक्खियों के बिना, कई फसलें प्रजनन करने में सक्षम नहीं होंगी। मधुमक्खियां फसलों को मजबूत और कीटों और बीमारियों को लेकर ज़्यादा प्रतिरोधी बनाने में भी मदद करती हैं। जानिए खेती और मधुमक्खी पालन से जुड़ी अहम बातें।

कृषि और शहद उत्पादन (Agriculture and Honey Production) का गहरा संबंध है। शहद न सिर्फ़ स्वादिष्ट प्राकृतिक मिठास देने वाला उत्पाद है, बल्कि कृषि उद्योग और पर्यावरण को समर्थन देने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। कृषि और शहद के बीच जटिल संबंध है, जिसमें परागण, जैव विविधता और आर्थिक विकास शामिल है। 

कृषि में मधुमक्खी का क्या महत्व है?

सबसे महत्वपूर्ण तरीकों में से एक, जिसमें कृषि और शहद जुड़े हुए हैं, वो परागण के माध्यम से है। मधुमक्खियां फूलों के नर से मादा भागों में पराग स्थानांतरित करने में ज़रूरी भूमिका निभाती हैं, जो पौधों को प्रजनन और फल और बीज पैदा करने में मदद करते हैं। सभी फूल वाले पौधों में से लगभग 80% को उर्वरक बनाने के लिए मधुमक्खियों जैसे परागणकों (Pollinators) की ज़रूरत होती है। चूंकि इन पौधों में कई फल, सब्जियां, मेवे और तिलहन शामिल हैं, कृषि क्षेत्र सफल परागण और उसके बाद की फसल की पैदावार के लिए मधुमक्खियों पर बहुत अधिक निर्भर करता है। 

परागण में मधुमक्खियों के बिना, कई कृषि फसलों को प्रजनन में चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा, जिसकी वजह से उपज कम हो जाएगी और भोजन की भी कमी हो जाएगी। इसलिए मधुमक्खियों और अन्य परागणकों की स्वस्थ आबादी को बनाए रखना कृषि की उत्पादकता और समग्र खाद्य सुरक्षा के लिए ज़रूरी है। 

शहद

परपरागण जैव विविधता को बढ़ाता है 

इसके अलावा, मधुमक्खियां फूलों के रस की तलाश में बड़े क्षेत्रों को कवर करने की अपनी क्षमता के लिए जानी जाती हैं। इससे विभिन्न पौधों की प्रजातियों का पर-परागण होता है। ये कृषि के क्षेत्र में जैव विविधता को बढ़ाता है, क्योंकि मधुमक्खियां, पौधों के बीच आनुवंशिक आदान-प्रदान की सुविधा पैदा करती हैं। इससे वो कीटों, बीमारियों और पर्यावरण से जुड़ी चुनौतियों को लेकर ज़्यादा प्रतिरोधी बन जाती हैं। 

शहद उत्पादन, कृषि और मधुमक्खियों के बीच सीधे सम्बन्ध के अलावा, कृषि अर्थव्यवस्था का एक अभिन्न अंग है। मधुमक्खी पालन उद्योग न केवल मधुमक्खी पालकों को आय का एक स्थायी स्रोत देता है, बल्कि शहद, मोम और इससे जुड़े अन्य उत्पादों की बिक्री के माध्यम से अर्थव्यवस्था में भी योगदान देता है। शहद की मांग बहुत है और इसका इस्तेमाल न केवल खाने की चीज़ों के लिए, बल्कि सौंदर्य प्रसाधन, फार्मास्यूटिकल्स और यहां तक कि वैकल्पिक चिकित्सा जैसे विभिन्न उद्योगों में भी किया जाता है। 

शहद

प्रवासी मधुमक्खी पालन क्या है? 

शहद उत्पादन को भूमि प्रबंधन के रूप में भी देखा जा सकता है। कई मधुमक्खी पालक फसलों के चक्र का पालन करते हुए अपने छत्ते को अलग-अलग जगहों पर ले जाते हैं। ये प्रक्रिया, जिसे प्रवासी मधुमक्खी पालन के रूप में जाना जाता है, सुनिश्चित करने में मदद करती है कि मधुमक्खियों को पूरे वर्ष विभिन्न प्रकार के फूलों वाले पौधों तक पहुंच प्राप्त हो। ऐसा करने से, मधुमक्खी पालक कृषि परागण का समर्थन करते हैं, साथ ही विभिन्न प्रकार के पुष्प स्रोतों से शहद में आने वाले अनूठे स्वाद और गुणों से भी लाभान्वित होते हैं। 

हालांकि, कृषि और शहद उत्पादन के बीच कई लाभों के बावजूद, ऐसी चुनौतियां और खतरे भी हैं, जो दोनों क्षेत्रों को प्रभावित करते हैं। सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक दुनिया भर में मधुमक्खियों की आबादी में गिरावट है, जिसे अक्सर कॉलोनी पतन विकार (सीसीडी) कहा जाता है। आवास हानि, कीटनाशकों का उपयोग, जलवायु परिवर्तन और बीमारियों जैसे कारकों ने मधुमक्खियों की आबादी को प्रभावित किया है।

मधुमक्खी पालन 3

सीसीडी न केवल शहद उत्पादन के लिए खतरा पैदा करता है, बल्कि परागण के लिए मधुमक्खियों पर निर्भर कृषि फसलों पर भी गंभीर प्रभाव डालता है। मधुमक्खियों की संख्या कम होने का मतलब है फसल की कम उपज और कृषि उत्पादकता में गिरावट। ये टिकाऊ कृषि पद्धतियों, कीटनाशकों के उपयोग और मधुमक्खी आवासों के संरक्षण और बहाली की तत्काल ज़रूरत पर ज़ोर डालता है। 

कृषि और शहद उत्पादन के बीच परस्पर सबंध

मधुमक्खी की आबादी में गिरावट को संबोधित करने और कृषि और शहद के बीच सहजीवी संबंध को बढ़ावा देने के लिए कोशिश की जा रही है। सरकारें, संगठन और व्यक्तिगत रूप से परागण-अनुकूल फूल लगाकर और हानिकारक कीटनाशकों के उपयोग को कम करके मधुमक्खी-अनुकूल वातावरण बनाने पर भी काम चल रहा है। मधुमक्खियों के महत्व और खाद्य उत्पादन में उनकी भूमिका को बढ़ावा देने के लिए शिक्षा और जागरूकता अभियान भी चलाए जा रहे हैं।

इसमें कोई शक नहीं है कि कृषि और शहद उत्पादन के बीच परस्पर निर्भरता है। मधुमक्खियां, परागणकर्ता के रूप में, सफल फसल प्रजनन और उच्च पैदावार सुनिश्चित करती हैं, जिससे खाद्य सुरक्षा में योगदान होता है। वे फसल के लचीलेपन को बढ़ाते हुए जैव विविधता और आनुवंशिक विविधता को भी बढ़ावा देते हैं।

शहद उत्पादन ही मधुमक्खी पालकों के लिए आर्थिक अवसर भी बनाता है और तरह तरह के उद्योगों में योगदान देता है। हालांकि, मधुमक्खी की आबादी में गिरावट कृषि और शहद उत्पादन दोनों के लिए महत्वपूर्ण चुनौतियां पैदा करती है, जो संरक्षण प्रयासों और टिकाऊ कृषि प्रथाओं की आवश्यकता पर बल देती है। मधुमक्खियों के महत्व को पहचानकर और उनकी भलाई के लिए कार्रवाई करके, हम एक सम्पन्न कृषि क्षेत्र और शहद उत्पादन के लिए एक स्थायी भविष्य सुनिश्चित कर सकते हैं। 

मधुमक्खी पालन व्यवसाय

भारत में मधुमक्खी पालन सदियों से किया जाता रहा है, लेकिन हाल ही में इसे एक व्यवहार्य करियर विकल्प के रूप में मान्यता मिली है। शहद और अन्य मधुमक्खी उत्पादों की बढ़ती मांग के साथ, मधुमक्खी पालन हम में से कई लोगों के लिए एक आकर्षक व्यवसाय का अवसर बनता जा रहा है।

भारत विविध प्रकार की वनस्पतियों और जीवों का घर है, जो इसे मधुमक्खी पालन के लिए आदर्श बनाता है। देश में एक समृद्ध कृषि अर्थव्यवस्था है, जिसमें आबादी का एक महत्वपूर्ण हिस्सा खेती में शामिल है। मधुमक्खी पालन पारंपरिक कृषि का पूरक है क्योंकि यह परागण में मदद करता है, जिससे फसल की पैदावार बढ़ती है। 

भारत में मधुमक्खी पालन को एक करियर के रूप में भी लोकप्रियता मिली है। इसका एक मुख्य कारण शहद की बढ़ती मांग है। शहद न केवल प्राकृतिक मिठास देता है बल्कि इसके कई स्वास्थ्य लाभ भी हैं। इसका इस्तेमाल तरह तरह की खाने की चीज़ों में, हर्बल उपचार के रूप में, और सौंदर्य और त्वचा देखभाल से जुड़े उत्पादों में किया जाता है। भारत पर्याप्त मात्रा में शहद का उत्पादन करता है, लेकिन मांग आपूर्ति से कहीं अधिक है, जिससे मधुमक्खी पालन एक लाभदायक उद्यम बन गया है। 

मधुमक्खी पालन में कितना पैसा लगता है?

करियर के रूप में मधुमक्खी पालन का एक अन्य लाभ ये है कि मधुमक्खी पालन व्यवसाय शुरू करने के लिए कम निवेश की ज़रूरत होती है। कई अन्य कृषि पद्धतियों से अलग, मधुमक्खी पालन के लिए व्यापक भूमि या महंगे उपकरण की आवश्यकता नहीं होती है।

मधुमक्खी के छत्ते को छतों या पिछवाड़े जैसी छोटी जगहों पर स्थापित किया जा सकता है, जिससे यह सीमित संसाधन वाले व्यक्ति के लिए सुलभ हो सके। इसके अतिरिक्त, मधुमक्खी पालन के लिए निरंतर पर्यवेक्षण की आवश्यकता नहीं होती है, जिससे व्यक्तियों को एक साथ अन्य गतिविधियां करने की अनुमति मिलती है।

मधुमक्खी पालन पर्यावरणीय स्थिरता में भी योगदान देता है। मधुमक्खियां परागण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं, जो पारिस्थितिक तंत्र की जैव विविधता को बनाए रखने में मदद करती है। मधुमक्खियां पालने से मधुमक्खी पालक अप्रत्यक्ष रूप से पर्यावरण के संरक्षण और टिकाऊ कृषि को बढ़ावा देने में मदद करते हैं।

भारत में, कई सरकारी पहल और संगठन आजीविका के लिए विकल्प के रूप में मधुमक्खी पालन को बढ़ावा दे रहे हैं। राष्ट्रीय मधुमक्खी बोर्ड, कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय की एक शाखा, मधुमक्खी पालकों को वित्तीय और तकनीकी सहायता देती है। बोर्ड महत्वाकांक्षी मधुमक्खी पालकों को मधुमक्खी पालन के विभिन्न पहलुओं के बारे में शिक्षित करने के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम भी करता है।

युवाओं ने अपनाया मधुमक्खी पालन

देश के कई ऐसे युवा हैं, जिन्होंने बतौर मुख्य व्यवसाय मधुमक्खी पालन को चुना है। इन्हीं में से एक हैं कश्मीर के रहने वाले नाज़िम। नाज़िम ने मधुमक्खी पालन को दो बॉक्स के साथ एक शौक के तौर पर शुरू किया था। ये यूरोपियन नस्ल की मधुमक्खियों एपिस मेलिफेरा (Apis Mellifere) के डिब्बे थे, जो नाज़िम को उनके पिता के एक दोस्त ने फ़्री में दिए थे। उन्हें नुकसान भी झेलना पड़ा।

फिर उन्होंने खादी विलेज उद्योग विभाग से सात दिन का कोर्स किया। यहां उनकी मुलाकात एक नाज़िम नाम के शख्स से हुई। इस शख्स ने नाज़िम को 10 बॉक्स दिलाए। इन 10 डिब्बों से उसे 40 किलो शहद मिला। जब नाज़िम ने सीखे हुए हुनर की बदौलत 10 से 15 बॉक्स बना लिए तो उन्हें 15 बॉक्स और मिले। इन बॉक्स की उन्हें आधी कीमत देनी पड़ी क्योंकि सरकारी योजना के मुताबिक, इन पर उन्हें 50 फ़ीसदी सब्सिडी मिली।

खुदरा सप्लाई से ठीक मूल्य मिलने से उत्साहित नाज़िम ने 2021 में अपने ब्रांड- अल नहल हनी (Al Nahl Honey)  की शुरुआत की। दिल्ली गए और वहां एक प्रोफ़ेशनल कंपनी से बोतल और स्टीकर आदि की डिज़ाइनिंग और मैन्युफैक्चरिंग कराई। अब वो इस ब्रांड से तीन साइज़ की बोतलों की पैकिंग में शहद बेचते हैं।

मधुमक्खी पालन 4

एक ऐसे ही शख्स हैं  पंजाब के लुधियाना के रहने वाले किसान जसवंत सिंह तिवाना। कभी सिर्फ़ 2 बक्सों से मधुमक्खी पालन व्यवसाय की शुरुआत करने वाले जसवंत सिंह तिवाना की गिनती पंजाब के सफल मधुमक्खी पालकों में होती है। 6 महीने के अंदर ही उनके बक्सों की संख्या 2 से 15 पहुंच गई।

जसवंत सिंह अपने व्यवसाय को ‘Tiwana Bee Farm’ के नाम से चलाते हैं। इसी ब्रांड के तहत अपने उत्पाद बेचते हैं। उनकी अपनी शहद प्रोसेसिंग यूनिट भी है, जिसमें वह नेचुरल शहद तैयार करने के अलावा, मधुमक्खियों के छत्ते से वैक्स और हनी बॉक्स भी खुद ही बनाते हैं। वह मधुमक्खी पालन व्यवसाय के लिए ज़रूरी हनी एक्सट्रेक्टर, बी-बॉक्स, बोतल सीलिंग मशीन, हनी प्रोसेसिंग प्लांट, पॉलन निकालने की मशीन, मधुमक्खी का जहर निकालने की मशीन, स्मोकर्स जैसे कई उपकरण भी बनाते हैं। वह ये उपकरण किफ़ायती कीमतों पर अन्य किसानों को उपलब्ध कराते हैं।

मधुमक्खी पालन 5

कश्मीर के बांदीपोरा के सुंबल की रहने वालीं तबस्सुम मलिक भी मधुमक्खी पालन से जुड़ी हैं। पढ़ाई के दौरान एपीकल्चर सेमेस्टर में तबस्सुम ने जाना कि अगर नौकरी न मिली तो कैसे खुद का काम कर सकते हैं।

मधुमक्खी पालन 3

 

तबस्सुम ने मधुमक्खी पालन के क्षेत्र में दाख़िल होने की ठानी। हालांकि, पहले ही कदम पर धोखा मिला और पैसे भी डूब गये। उस मुश्किल दौर में भी तबस्सुम ने हार नहीं मानी। फिर यूनिवर्सिटी के ज़रिये ही उसकी मुलाक़ात एज़ाज़ से हुई, जिनसे मधुमक्खी पालन के 30 बक्से लेकर तबस्सुम जो आगे बढ़ी तो फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा। तबस्सुम कहती हैं-

साल में करीब 70-80 हज़ार रुपये आ जाते हैं। दूसरे बिज़नेस में निवेश ज़्यादा करना होता है। इसमें न तो ज़्यादा निवेश करना है न वक़्त ज़्यादा देना होता है और मार्केट अच्छा है। लाभ भी ज़्यादा है।

मधुमक्खी पालन से जुड़ी चुनौतियां

हालांकि, भारत में मधुमक्खी पालन से जुड़ी चुनौतियां भी हैं। किसानों और आम जनता के बीच मधुमक्खी पालन के बारे में जागरूकता और जानकारी की कमी बड़ी बाधा है। बहुत से लोग मधुमक्खी पालन की आर्थिक क्षमता और इससे कृषि क्षेत्र को होने वाले लाभ से अनजान हैं। इसलिए, ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को मधुमक्खी पालन को एक करियर के रूप में अपनाने के लिए प्रोत्साहित करने की ज़रूरत है। इसके लिए व्यापक जागरूकता अभियान और प्रशिक्षण कार्यक्रमों की आवश्यकता है। 

इसके अलावा, मधुमक्खियों को प्रभावित करने वाली बीमारियों और कीटों की उपस्थिति मधुमक्खी पालकों के लिए चिंता का विषय है। बीमारियों के प्रसार को रोकने और मधुमक्खी की कालोनियों के स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने के लिए नियमित निगरानी और उचित प्रबंधन ज़रूरी हैं। मधुमक्खी पालकों को किसी भी समस्या से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए मधुमक्खी पालन प्रथाओं में होने वाले अनुसंधान के बारे में जानकारी होना ज़रूरी है। 

भारत में मधुमक्खी पालकों के सामने एक और चुनौती जलवायु पैटर्न में बदलाव है। जलवायु परिवर्तन मधुमक्खियों के लिए फूलों से जुड़े संसाधनों की उपलब्धता और गुणवत्ता को प्रभावित कर सकता है। इसके बदले में शहद उत्पादन को प्रभावित कर सकता है। मधुमक्खी पालकों के लिए अपने मधुमक्खी पालन उद्यम की सफलता सुनिश्चित करना ज़रूरी है। साथ ही इसके लिए अपनी प्रथाओं को अ  पनाने और मौसम की स्थिति में बदलाव के लिए तैयार रहने की ज़रूरत है। 

इन चुनौतियों के बावजूद, भारत में मधुमक्खी पालन के क्षेत्र में अपार संभावनाएँ हैं। ये न केवल व्यक्तियों के लिए आय का एक स्थायी स्रोत बन सकता है बल्कि देश के समग्र आर्थिक विकास में भी योगदान देता है। सही समर्थन और जागरूकता के साथ, मधुमक्खी पालन भारत में एक सम्पन्न उद्योग बन सकता है। इससे मधुमक्खी पालकों और पर्यावरण दोनों को समान रूप से लाभ होगा। 

सम्पर्क सूत्र: किसान साथी यदि खेती-किसानी से जुड़ी जानकारी या अनुभव हमारे साथ साझा करना चाहें तो हमें फ़ोन नम्बर 9599273766 पर कॉल करके या [email protected] पर ईमेल लिखकर या फिर अपनी बात को रिकॉर्ड करके हमें भेज सकते हैं। किसान ऑफ़ इंडिया के ज़रिये हम आपकी बात लोगों तक पहुँचाएँगे, क्योंकि हम मानते हैं कि किसान उन्नत तो देश ख़ुशहाल। 
You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.