किसानों का Digital अड्डा

Wheat Variety: कृषि वैज्ञानिकों ने ईज़ाद की गेहूं की नई किस्म, जानिए कैसे किसानों के लिए है फ़ायदेमंद

तीन बार में ही सिंचाई से मिलेगी अच्छी पैदावार

छत्तीसगढ़ के वैज्ञानिकों ने कमाल कर दिखाया है। वैज्ञानिकों ने गेहूं की नई किस्म विकसित की है। ये किस्म पोष्टिक तत्वों से भरपूर है। इस किस्म से बनी रोटी 12 घंटे तक मुलायम बनी रहेगी। इसके साथ में अन्य कई खूबियां हैं।

कृषि में रोज़ नये-नये शोध निकल कर आ रहे हैं। इसी कड़ी में देश के वैज्ञानिक फसलों के बीजों पर शोध कर रहे हैं। हाल ही में गन्ने की नई किम्म को लेकर रिसर्च सामने आई थी। रिसर्च में गन्ने की ऐसी प्रजाति विकसित की गई, जिससे एक एकड़ भूमि में लगभग 55 टन तक किसान गन्ने की पैदावार ले सकते हैं। अब छत्तीसगढ़ के वैज्ञानिकों ने गेहूं की ऐसी ही एक नई प्रजाति विकसित की है। कृषि वैज्ञानिक गेहूं की इस किस्म को विकसित करने के लिए काफी समय से कोशिश कर रहे थे। अब जाकर वैज्ञानिकों को कामयाबी मिली है।

गेहूं की नई किस्म

क्या है नाम और ख़ासियतें

कृषि वैज्ञानिकों ने जो गेहूं की नई किस्म ईज़ाद की है, उसे विद्या सीजी 1036 नाम दिया गया है। कृषि वैज्ञानिकों का दावा है कि इसके आटे से बनी रोटियां अधिक स्मय तक नरम रहेंगी और पोष्टिकता से भरपूर होंगी। इस गेहूं से जो आटा बनेगा वो अधिक पानी सोख सकेगा। आटे के ज़्यादा पानी सोखने के कारण इससे बनी रोटियां अधिक फूलती हैं। वैज्ञानिकों के अनुसार, रोटियां ठंडी होने के बाद भी 10 से 12 घंटे तक मुलायम रहेंगी।

ये भी पढ़ें: मछली के साथ बत्तख पालन यानी दोगुना लाभ, एक्सपर्ट एनएस रहमानी से जानिए कैसे शुरू करें Fish Cum Duck Farming

किस क्षेत्र में उगा सकते हैं ये किस्म

केंद्र सरकार के अखिल भारतीय समन्वित गेहूं और जौ अनुसंधान केन्द्र ने गेहूं की नई प्रजाति को छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, गुजरात, राजस्थान के कोटा, उदयपुर और उत्तर प्रदेश के झांसी संभाग के लिए उपयोगी माना है। इन क्षेत्रों में फसल का उत्पादन बेहतर होगा। इसके साथ ही किसान अच्छी उपज पा सकेंगे।

गेहूं की नई किस्म
तस्वीर आभार: Sawabar

आटा गूंथने के बाद नहीं आएगा कालापन

गेहूं की इस नई विकसित किस्म विद्या सीजी 1036 को केंद्र सरकार ने भी अधिसूचित कर लिया है। टेस्टिंग में चपाती गुणवत्ता सूचकांक में इस किस्म को 8.5/10 पाया गया है। ये देश की सभी गेहूं प्रजाति में सबसे अधिक है। रिसर्च करने वाले कृषि वैज्ञानिकों के अनुसार, आटा जब गूंथा जाता है और कुछ समय के लिए रख दिया जाए तो उसमें कालापन आ जाता है। इस नई प्रजाति में फिनाल तत्व कम है। इसलिए गेहूं की इस नई प्रजाति में गूंथने के बाद कालापन नहीं आएगा।

गेहूं की नई किस्म
तस्वीर आभार: News Track

कम सिंचाई की होगी जरुरत

आपको बता दें कि अभी जो प्रजाति मौजूद है उन्हें 5 से 6 बार सिंचाई की आवश्यकता होती है, लेकिन नई प्रजाति में कम सिंचाई की आवश्यकता होती है। अमूमन गेहूं की फसल को छह बार सिंचाई की ज़रूरत होती है, लेकिन ये किस्म तीन सिंचाई में भी अच्छी पैदावार देगी।

ये भी पढ़ें: Groundnut Cultivation: इस महिला ने उन्नत तरीकों से की मूंगफली की खेती, इस किस्म से मिली अच्छी पैदावार

सम्पर्क सूत्र: किसान साथी यदि खेती-किसानी से जुड़ी जानकारी या अनुभव हमारे साथ साझा करना चाहें तो हमें फ़ोन नम्बर 9599273766 पर कॉल करके या [email protected] पर ईमेल लिखकर या फिर अपनी बात को रिकॉर्ड करके हमें भेज सकते हैं। किसान ऑफ़ इंडिया के ज़रिये हम आपकी बात लोगों तक पहुँचाएँगे, क्योंकि हम मानते हैं कि किसान उन्नत तो देश ख़ुशहाल।

मंडी भाव की जानकारी

ये भी पढ़ें:

 
You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.