किसानों का Digital अड्डा

लैवेंडर की खेती के लिए जम्मू और कश्मीर सरकार ने क्या बुनियादी ढांचा बनाया है?

लैवेंडर एक अच्छी कमाई वाली फसल, जिसमें आय में बढ़ोतरी की काफ़ी संभावना

मिशन का मक़सद किसानों की आय बढ़ाना और व्यावसायिक स्तर पर लैवेंडर की खेती को बढ़ावा देना है। साथ ही लैवेंडर का तेल बनाना है जो 10,000 रुपये प्रति लीटर में बिकता है। अन्य लोकप्रिय उत्पादों में दवाएं, अगरबत्ती, साबुन और एयर फ्रेशनर शामिल हैं।

Cultivation of Lavender | लैवेंडर की खेती हाल ही में जम्मू और कश्मीर में तेज़ी से उभर रही है। यहां की जलवायु और मिट्टी की स्थिति इस खेती के लिए अच्छी है। इसका इस्तेमाल कॉस्मेटिक्स, औषधीय और सुगंध उद्योगों में किया जाता है। हालांकि, लैवेंडर की खेती को बढ़ाने और इसे एक लाभदायक उद्यम बनाने के लिए, कई बुनियादी ढांचे की ज़रूरतें हैं। जम्मू-कश्मीर सरकार इसका ख़ास ख़्याल रख रही है।

जम्मू और कश्मीर सरकार राज्य की अर्थव्यवस्था में सुधार के लिए क्षेत्र में कृषि और बागवानी को बढ़ावा देने पर ध्यान दे रही है। इसी दिशा में सरकार ने लैवेंडर की खेती के लिए बुनियादी ढांचा मुहैया कराया है। लैवेंडर एक अच्छी कमाई वाली फसल है, जिसमें आय में बढ़ोतरी की काफ़ी संभावना है। सरकार ने किसानों को इसकी खेती करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए कदम उठाए हैं।

लैवेंडर की खेती के लिए ज़रूरी बुनियादी ढांचे की ज़रूरत 

जम्मू-कश्मीर में लैवेंडर की खेती को सुविधाजनक बनाने के लिए सरकार ने कई कदम उठाए हैं। किसानों को गुणवत्ता वाले लैवेंडर पौधों को वितरित करने के लिए नर्सरी स्थापित की है। सरकार ने किसानों को लैवेंडर की खेती की तकनीकों के बारे में शिक्षित करने के लिए तकनीकी जानकारी और प्रशिक्षण प्रदान किया है। लैवेंडर के खेतों को तैयार करने में मदद करने के लिए सरकार किसानों को ऋण भी दे रही है।

इसके अलावा, सरकार किसानों को वित्तीय प्रोत्साहन देकर बड़े पैमाने पर लैवेंडर उगाने के लिए प्रोत्साहित भी कर रही है। लैवेंडर की खेती और कटाई के लिए मशीनरी खरीदने के लिए सरकार ने सब्सिडी दी है। वे ड्रिप सिंचाई प्रणाली की खरीद पर भी सब्सिडी प्रदान कर रहे हैं, जो लैवेंडर के उचित विकास के लिए आवश्यक हैं। इसके अलावा, सरकार ने लैवेंडर किसानों के लिए एक बाजार लिंकेज तैयार किया है।

Kisan of india facebook

लैवेंडर की खेती के लिए विशिष्ट बुनियादी ढांचे जैसे उच्च गुणवत्ता वाले बीज, सिंचाई प्रणाली और मशीनरी की ज़रूरत होती है। सरकार ने किसानों को ये बुनियादी ढांचा उपलब्ध कराने के लिए कोशिशें की हैं। उन्होंने लैवेंडर फूल और तेल निकालने के लिए आधुनिक प्रसंस्करण इकाइयां स्थापित की हैं। ये बुनियादी ढांचा किसानों को लैवेंडर को संसाधित करने और बाजार में बेहतर कीमतों पर बेचने में मदद करता है।

सीएसआईआर-आईआईआईएम की कोशिशें 

सीएसआईआर-अरोमा मिशन के तहत, सीएसआईआर-आईआईआईएम ने लैवेंडर की खेती पर ज़ोर दिया और जम्मू-कश्मीर के अलग-अलग जिलों के किसानों को 30 लाख से ज़्यादा मुफ्त लैवेंडर पौधे दिए गए। सीएसआईआर-आईआईआईएम ने किसानों को उनकी उपज के प्रसंस्करण में सहायता करने के लिए जम्मू-कश्मीर में अलग-अलग जगहों पर पचास इकाइयां (45 निश्चित और पांच मोबाइल) स्थापित की हैं। 

सरकार के प्रयासों के महत्वपूर्ण परिणाम मिले हैं और किसानों ने लैवेंडर की खेती में गहरी दिलचस्पी दिखानी शुरू कर दी है। सरकार ने क्षेत्र में लैवेंडर के उत्पादन को बढ़ाने के लिए कई पहल की हैं। लैवेंडर की खेती इस क्षेत्र में कृषि का एक अनिवार्य हिस्सा बन गई है, और सरकार भविष्य में लैवेंडर की खेती के लिए ज़्यादा धन आवंटित करने की योजना बना रही है। Kisan of India Twitter

लैवेंडर की खेती से जुड़े मिशन की अहमियत 

CSIR IIIM के रिकॉर्ड के अनुसार, क्षेत्र के कई छोटे और सीमांत मक्का किसानों ने लैवेंडर को सफलतापूर्वक अपनाया है। लैवेंडर की खेती ने जम्मू-कश्मीर की भौगोलिक दृष्टि से दूर बसे क्षेत्रों में बड़ी संख्या में किसानों और युवा उद्यमियों को रोजगार दिया है। सीएसआईआर-आईआईआईएम के हस्तक्षेप के कारण क्षेत्र में लैवेंडर की खेती के आसपास एक नया उद्योग विकसित हुआ है। जम्मू-कश्मीर के अलग-अलग हिस्सों में 2500 से ज़्यादा किसान लैवेंडर की खेती कर रहे हैं।

महिलाओं को मुख्य रूप से लैवेंडर के खेतों में फूलों की कटाई और प्रसंस्करण के लिए नियोजित किया जाता है, जिससे इस क्षेत्र में महिलाओं की आय में वृद्धि हुई है। कई युवा उद्यमियों ने लैवेंडर तेल, हाइड्रोसोल और फूलों के मूल्यवर्धन के माध्यम से छोटे पैमाने पर कारोबार शुरू किया है। सीएसआईआर-आईआईआईएम कई कौशल विकास कार्यक्रम आयोजित कर रहा है और लैवेंडर की खेती, प्रसंस्करण, मूल्यवर्धन और विपणन पर जम्मू-कश्मीर के 2500 से ज़्यादा किसानों और युवा उद्यमियों को प्रशिक्षित कर रहा है। 

लैवेंडर की खेती से किसानों को फ़ायदा 

मक्का से लैवेंडर की खेती करने वाले किसानों की वार्षिक आय कई गुना बढ़ गई है- 40,000/-रु से 60,000/- रु प्रति हेक्टेयर और 3,50,000/- रु. से 6,00,000/- प्रति हेक्टेयर। भद्रवाह, डोडा जिले के किसानों ने 2019, 2020, 2021 और 2022 में क्रमशः 300, 500, 800 और 1500 लीटर लैवेंडर तेल का उत्पादन किया है। उन्होंने सूखे फूल, लैवेंडर के पौधे और लैवेंडर का तेल बेचकर 2018-2022 के बीच करोड़ों की कमाई की है। लैवेंडर की खेती पर सफल प्रौद्योगिकी हस्तांतरण ने जम्मू-कश्मीर के किसानों को अपनी खेती में और आर्थिक रूप से उत्कृष्टता पाने में मदद की है। 

काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च-इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ इंटीग्रेटिव मेडिसिन (CSIR-IIIM) जम्मू में प्लांट साइंसेज एंड एग्रोटेक्नोलॉजी डिवीजन (PSA) के प्रधान वैज्ञानिक – डॉ. सुमीत गैरोला उन सभी लोगों को सलाह देते हैं जो जम्मू और कश्मीर में लैवेंडर उगाने में रुचि रखते हैं, “उन्हें पहले ये आंकलन करना चाहिए कि वो वर्तमान में अपनी जमीन से कितना फ़ायदा पा रहे हैं। अगर उन्हें प्रति एकड़ एक लाख रुपये से ज़्यादा मिल रहा है, तो मैं उन्हें अपनी वर्तमान कृषि फसल जारी रखने का सुझाव दूंगा।

हालाँकि जिन स्थानों पर बारिश होती है, वहाँ पानी और जंगली जानवरों की समस्या होती है, मेरा सुझाव है कि वो लैवेंडर की खेती का पता लगा सकते हैं। वो उन किसानों से मिलें जो पहले से ही लैवेंडर की खेती कर रहे हैं और उनसे लैवेंडर लेने के बारे में चर्चा करें। वे मार्गदर्शन के लिए सीएसआईआर-आईआईआईएम जम्मू से भी संपर्क कर सकते हैं। वर्षा आधारित पहाड़ी ढलानों पर लैवेंडर किसानों के लिए आय का एक अच्छा स्रोत हो सकता है। 

लैवैंडर की सामान्य ज़रूरतें  

इस तरह, जम्मू और कश्मीर सरकार द्वारा उपलब्ध कराए गए बुनियादी ढांचे ने क्षेत्र में लैवेंडर की खेती को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। सरकार की कोशिशों की वजह से ही किसानों का आर्थिक उत्थान हुआ है और इससे पूरे क्षेत्र को फ़ायदा मिला है। बुनियादी ढांचे के साथ, जम्मू और कश्मीर में लैवेंडर की खेती का भविष्य उज्ज्वल दिखता है।

सरकार द्वारा विकसित बुनियादी ढांचे के अलावा लैवेंडर के पौधे को उगाने के लिए कुछ और ज़रूरतें भी होती हैं। लैवेंडर की खेती के लिए अच्छी जल निकासी वाली मिट्टी की ज़रूरत होती है। साइट पर दिन में कम से कम 6-8 घंटे के लिए पूर्ण सूर्य का प्रकाश होना चाहिए। पौधों को पर्याप्त पानी मिले ये सुनिश्चित करने के लिए उचित सिंचाई प्रणाली स्थापित करनी होती है।

इसके अलावा, लैवेंडर पौधों के इष्टतम विकास और उत्पादन को सुनिश्चित करने के लिए एक उपयुक्त पोषक तत्व प्रबंधन प्रणाली स्थापित की जानी चाहिए। रोग को रोकने और स्वस्थ विकास को बढ़ावा देने के लिए उचित जल निकासी और नियमित छंटाई भी ज़रूरी है। आख़िर में, कटे हुए लैवेंडर फूलों को सुखाने और संसाधित करने के लिए अच्छी भंडारण सुविधा होनी चाहिए। 

Kisan of India Instagram
सम्पर्क सूत्र: किसान साथी यदि खेती-किसानी से जुड़ी जानकारी या अनुभव हमारे साथ साझा करना चाहें तो हमें फ़ोन नम्बर 9599273766 पर कॉल करके या [email protected] पर ईमेल लिखकर या फिर अपनी बात को रिकॉर्ड करके हमें भेज सकते हैं। किसान ऑफ़ इंडिया के ज़रिये हम आपकी बात लोगों तक पहुँचाएँगे, क्योंकि हम मानते हैं कि किसान उन्नत तो देश ख़ुशहाल।

ये भी पढ़ें:

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.